अगर आप  पेट का अल्सर या पेप्टिक अल्सर यानि की पेट मे छालो के बारे में नहीं जानते है  पेट मे होने वाले छालो की बात करेंगे जिसको स्टोमक अल्सर के नाम से भी जाना जाता है | इसको दूसरे नाम गोस्ट्रिक अलसर के नाम से भी जाना जाता है | ये घाव या छाले जो फफोले बनने के बाद पैदा होते है | ये बीमारी सामान्यतः भोजन मे बुरे बदलाव के कारण होते है जो कभी कभी बहुत खतरनाक रूप ले लेती है |

यह छाले शरीर के अंदर छोटी ऑतो के शुरूआती पॉइंट या म्युकल झल्ली पर होने वाले छालो या घाव होते है | यह तब होते है जब भोजन को पचाने वाला एसिड आमाशय को नुकसान पहुँचाने लगते है | छाले होने पर पेट दर्द ,एसिडिटी, उल्टी के साथ साथ खून भी निकलने लगता है |

कुछ समय बाद ये छाले फट भी जाते है जिसको परफ़रेसन कहते है | हेलिकोबेक्टर पाइलोरी नामक बेक्टीरिया का संक्रमण भी इसकी वजह होती है |

यह एक सामान्य सा बैक्टीरिया होता है | जिसके होने का हमको पता भी नही चल पाता है | यह बीमारी किसी भी उम्र मे किसी को भी हो सकती है | आपके परिवार मे किसी को पहले भी यह बीमारी हो चुकी है तो इससे परिवार के सदस्यो को भी यह बीमारी होने का खतरा और भी बढ जाता है |

पेट का अल्सर क्या है तथा यह कितने प्रकार का होता है –

दोस्तों पेप्टिक अल्सर का मुख्य कारण पेट मे दर्द होता है | इसके साथ साथ खून भी निकलता है | पेप्टिक अल्सर का एक लक्षण होता है जो खाना खाने के बाद जब पेट मे दर्द हो और डकार जैसी एंटी एसिड मेडीसिनेस से भी असर ना हो तो इसे गैस्ट्रिक अल्सर का लक्षण मन जाता है |

वही खाली पेट मे दर्द होने पर खाना खाने के बाद आराम मिलने पर इसको डूआइनल अल्सर का लक्षण होता है उल्टी होना भूख ना लगना वजन कम हो जाना भी पेप्टिक अल्सर का लक्षण ही होता है |

मानवेन्द्र सिंह

मानवेंद्र सिंह सॉफ्ट प्रमोशन टेक्नोलॉजी प्राइवेट लिमिटेड में फिटनेस और हेल्थ ब्लॉगर हैं। उन्होंने 2006 में BHM स्नातक की डिग्री ली है। उन्हें स्वास्थ्य एवं विज्ञान अनुसंधान के क्षेत्र में लेखन का आनंद मिलता है।

Leave a comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.