गर्भाशय में दर्द से राहत के सरल घरेलू उपाय – Uterus Pain In Hindi

0
261

आज आपको इसके बारे मे जानकारी देंगे कि गर्भाशय में दर्द होने पर आपको राहत पाने के लिए किन घरेलू उपचार का प्रयोग करना चाहिये | क्योंकि महिलाओ को अक्सर गर्भावस्था के पेन में कई प्रकार की परेशानी का सामना करना पड़ता है , जिसमे उन्हें शरीर में  काफी दर्द होता है | इस बीमारी की वजह से गर्भाशय मे कई तरह की परेशानी शुरु हो सकती है | इसीलिये आपको गर्भाशय के दर्द के इलाज का भी पता होना चाहिये , ताकि जब कभी अगर आपको या आपके किसी परिजन को गर्भाशय से सम्बंधित दर्द या रोग से जूझना पड़े तो आप उनकी मदद कर सकें |

तो आइये जानते है कि अगर किसी महिला को यह दर्द होता है तो उसमें राहत पाने के लिये किन सरल घरेलू उपायों का प्रयोग करना चाहिये ताकि जल्द से जल्द दर्द में आराम मिल सके|

गर्भाशय में दर्द से राहत के सरल घरेलू उपचार क्या है ?

बदलते मौसम मे दर्द का होना :-

बदलते मौसम मे यह दर्द होना आम बात है लेकिन इस बदलते मौसम मे कभी कभी महिला की बच्चेदानी मे परेशानी आने लगती है | अस्त वयस्त खानपान भी इसकी वजह हो सकता है | बदलता मौसम गर्भाशय को बहुत प्रभावित करता है|इसी लिये मौसम के परिवर्तन मे आप अपना खानपान सही रखे जिससे आपको इस परेशानी का सामना नही करना पड़ेगा | गर्भाशय में दर्द होने के घरेलु उपचार मे भी ये उपचार करके आप इस दर्द के होने से बच सकते है |

नीम और सोंठ का सेवन :-

नीम और सोंठ के सेवन भी आपको इस दर्द से मुक्ति दिला सकता है |नीम के पत्ते और सोंठ को पानी में उबाल ले | फिर इसका गाढ़ा काढ़ा बनाकर इसे रोजाना अपने गुप्त अंगो में लगाये | ऐसा करने से आपकी बच्चेदानी में सूजन की समस्या दूर हो जाएगी |

इसके अलावा नहाते समय भी नीम के पानी को गर्म कर उसके पानी के साथ नहाने से भी आपको बहुत आराम मिलेगा | इस प्रयोग से यह दर्द होने पर आप अपने आप को पीड़ा से बचा सकेंगे |

हल्दी का प्रयोग :-

हल्दी का सेवन भी हमको इसके इलाज मे काफी राहत दिलाता है |अगर आपके गर्भाशय में दर्द जैसी समस्या है तो आप हल्दी का सेवन कर इसको ठीक कर सकते है |

भुना हुआ हल्दी और भुना हुआ सुहागा को फ्रेश मकोय के ताजे रस में मिलाकर, उसको कॉटन के कपडे की सहायता से अपनी योनि में व आप पास नियमित इसकी मालिस करके आप गर्भाशय के दर्द से छुटकारा पा सकती हैं |

ऐसा नियमित करने से आपके गर्भाशय की सूजन मे काफी आराम मिलेगा|इस तरह हल्दी का घरेलू उपचार कर आप गर्भाशय के दर्द से आराम पा सकती हैं|

अंरडी के पत्तो का सेवन से करे गर्भाशय में दर्द का उपचार  :-

अंरडी के पत्तों को सबसे पहले पानी में उवाले फिर इसको छान लें| फिर कॉटन के कपडे में इसे भिगोकर अपने मुंह के अंदर रखें| हमको ये उपाय 3-4 दिन तक करने से हमारे पेट में मौजूद सभी कीटाणु खत्म हो जाएंगे और गर्भाशय मे सूजन की समस्या भी दूर हो जाएगी|ये उपचार भी गर्भाशय में दर्द होने के घरेलू उपचार में ही आता है |

फलों के रस का सेवन :-

महिलाओ के बच्चेदानी में सूजन या दर्द की समस्या होने पर उस महिला को रोजाना फलों का जूस पिलाये| महिला को रोजाना संतरे, गाजर, चकुंदर, टमाटर, सेब और पाइनएप्पल जैसे फलो का जूस को रोजाना 1 गिलास पीने से महिला की बच्चेदानी में सूजन या दर्द की समस्या दूर हो जाएगी| इस प्रकार का उपचार भी दर्द के होने के घरेलू उपचार मे ही आता है |

बादाम खाने से ठीक होता है गर्भाशय में दर्द :-

अगर किसी महिला को पेट मे दर्द की समस्या आ रही है तो महिला को रात को सोने से पहले 1 चम्मच बादाम के पाउडर को 3 चम्मच शर्बत,  बनफ्सा और खाण्ड के साथ पानी मे भिगो दें|फिर सुबह उठकर खाली पेट इस पानी का सेवन करने से गर्भाशय में गर्मी पैदा होगी, जो महिला की सूजन की समस्या को खत्म कर देगी | ऐसा करना गर्भाशय में दर्द होने के घरेलू मे ही माना जाता है |

अगर आपको या आपके परिवार मे किसी महिला को इस प्रकार की परेशानी का सामना करना पड़ रहा हो तो उस महिला को जल्द ही ये सारे उपचार करने की सलाह दे| जिससे उसकी इस बीमारी मे काफी कमी आएगी | घरेलू उपचार से आराम न मिलने पर किसी चिकित्सक से सलाह अवश्य ले क्योकि कोई अन्य रोग के प्रभाव के कारण भी गर्भाशय में दर्द की समस्या हो सकती है |

ऊपर दी हुई जानकारी का प्रयोग कर आप सरल व आसान घरेलू तरीकों से ही अपने गर्भाशय के दर्द से निजात पा सकते हैं |

 

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.