इंसुलिन इंजेक्शन

इंसुलिन इंजेक्शन मधुमेह रोगियों को दिया जाने वाला एक हार्मोन्स है वैसे यह हार्मोन्स भोजन पाचन के समय पैनक्रियाज के द्वारा शरीर में स्वयं उत्पन्न होता है लेकिन किसी कारणवश पैनक्रियाज में इस हार्मोन्स का निर्माण बंद हो जाये या कम हो जाये तो व्यक्ति के ब्लड में शुगर की मात्रा अधिक हो जाती है वह डायबिटीज की बीमारी से ग्रस्त हो जाता है इसी रोग के निवारण के लिये डॉक्टर्स उस रोगी को इंसुलिन इंजेक्शन या इंसुलिन पेन से इंसुलिन लेने की सलाह देते है

इंसुलिन इंजेक्शन क्या है ?

इस इंजेक्शन या पेन को इन्सुलिन नामक हार्मोन्स की कमी को पूरा करने के लिये शुगर रोगियों को दिया जाता है इस दवाई के द्वारा रोगी के शरीर में जमा अधिक ग्लूकोज की मात्रा को कम करने या ग्लूकोज को स्थिर करने में मदद मिलती है | इन्सुलिन हार्मोन्स का कार्य शरीर में स्थित ग्लूकोज की मात्रा को उर्जा में बदलकर शरीर को उर्जा प्रदान करता है  यह इंजेक्शन आप आसानी से किसी भी मेडिकल स्टोर से खरीद सकते है इस हार्मोन्स का निर्माण कई ब्रांडो द्वारा किया जाता है जिनकी कीमत अलग अलग हो सकती है


इंसुलिन पेन का मधुमेह रोग मे होने वाले फायदे –

यह इंजेक्शन शुगर पीड़ित व्यक्ति के शरीर में मौजूद रक्त शर्करा की मात्रा को उर्जा में परिवर्तित करने का काम करता है साथ ही साथ यह  मरीज के मेटाबॉलिज़्म को भी नियंत्रित करने काम करता है | अधिकतर डॉक्टर्स टाइप वन के मुकाबले टाइप टू डायबिटीज़ की बीमारी में इस दवा को लेने की सलाह देते है क्योंकि मधुमेह टाइप टू के मरीजो के शरीर में इन्सुलिन निर्माण पूरी तरह बंद हो जाता है | इसी कमी को दूर करने के लिये इस दवा का प्रयोग किया जाता है

ध्यान रहे इस दवा को लेते समय इन सावधानियों को जरुर बरते :

  • सबसे पहले अपना शुगर लेवल जांचे
  • भोजन के पन्द्रह मिनट पहले ही इस इंजेक्शन का प्रयोग करे
  • इन्जेक्‍शन लगाने वाली जगह को सबसे पहले अच्छी तरह से साफ़ कर ले
  • डॉक्टर्स द्वारा बताई गयी मात्रा या चार्ट का ही प्रयोग करे
  • हो सके तो इस दवा का प्रयोग डॉक्टर व किसी जानकार व्यक्ति के द्वारा ही करवाए जिससे इन्सुलिन सीधा आपकी नशों में जा सके
  • साफ सीरीन्ज के द्वारा ही इस दवाई का प्रयोग करे
  • इस दवा के प्रयोग से पहले व बाद में किसी भी प्रकार का धुम्रपान बिलकुल भी न करे

इंसुलिन इंजेक्शन से शरीर पर होने वाले कुछ साइड इफेक्ट्स –

इस दवा के अधिक उपयोग से पीड़ित व्यक्ति को निम्न प्रकार की समस्या का सामना करना पड़ सकता है :

  • ग्लूकोज का स्तर एकाएक कम हो जाना
  • सिरदर्द की परेशानी होने लगना
  • शरीर में उलझन होने लगना
  • मतली या उल्टी का होना
  • पैरों में सुजन आना   

जैसी परेशानी हो सकती है यदि आप शुगर के साथ साथ किसी अन्य बीमारी से ग्रस्त है तब भी आपको इस दवा का प्रयोग डॉक्टर की सलाह के साथ करना चाहिये | अब आइये जानते है इस दवा के प्रयोग के बाद किस प्रकार की सावधानी रखनी चाहिये |

इंजेक्शन प्रयोग के बाद ध्यान रखने योग्य खानपान

इस इंजेक्शन के प्रयोग के बाद आपको कुछ खास बातों का जरुर ध्यान रखना चाहिये जिससे यह दवा पीड़ित के शरीर पर जल्दी व अच्छा असर दिखा सके आपको इस दवाई लेने के उपरांत :

  • अधिक नमक का सेवन न करे
  • शराब व धुम्रपान से दूर रहे
  • काफी व चाय का सेवन भी न करे
  • अधिक तले भुने पदर्थों से दूर रहे
  • कोल्डड्रिंक व चीनी युक्त पेय पदार्थ  का सेवन न करे

ये सब परहेज अपनाने से आपको शुगर की बीमारी खत्म करने में मदद मिलेगी |

नोट :-  प्रयोग के बाद इस इंजेक्शन को ढककर, साफ़ व ठंडी जगह पर ही रखे ऐसा करने से इस दवा को किसी भी प्रकार की कोई हानि नही पहुचेगी और आप दोबारा भी इस दवा का प्रयोग कर सकते है| शुगर रोगी आसानी से इस इंजेक्शन को किसी भी मेडिकल स्टोर से लगभग एक हजार रूपए की कीमत में खरीद सकते है

डॉक्टर विक्रांत गौर

डॉक्टर विक्रांत गौर

(B.A.M.S.) रजिस्ट्रेशन न  - DBCP / A / 8062 पूर्व वरिष्ठ सलाहकार  जीवा आयुर्वेद दिल्ली ,  फरीदाबाद मेडिकल सेंटर ,पारख हॉस्पिटल फरीदाबाद में 5 साल का अनुभव  पाइल्स, हेयर फॉल, स्किन प्रॉब्लम, लिकोरिया रोगों  में एक्सपर्ट

Leave a comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.