जानिये ऑस्टियोपोरोसिस रोग , कारण , लक्षण एवं आयुर्वेदिक उपचार

0
346
जानिये ऑस्टियोपोरोसिस का आसन आयुर्वेदिक उपचार

ऑस्टियोपोरोसिस एक ऐसी शांत प्रकार की बीमारी है , जिसके लक्षण हमे सामान्यतः जल्दी दिखाई नही देते है | शरीर में कैल्शियम की कमी होने के वजह से यह बीमारी जन्म लेती है | इस बीमारी के हो जाने पर शरीर में अस्थि खनिज घनत्व कम हो जाता है| इसकी वजह से हड्डियाँ खोखली व कमजोर पड़ने लगती है और हल्का दबाब पड़ने पर टूट जाती है |

इस बीमारी के कारण हड्डी का फिर से जुड़ना मुश्किल हो जाता है, क्योंकि हमारा शरीर ओस्टोयों आर्थराइटिस में कार्टिलेज अपनी इलास्टिसिटी खो देता है | यह बीमारी पुरुषों की अपेक्षा महिलाओं में ज्यादा पाई जाती है | इस बीमारी में उम्र के साथ-साथ महिलाओं के शरीर में एस्ट्रोजोंन का स्तर भी का घटता जाता है | भारत देश में लगभग एक करोंड़ महिलाये इस बीमारी से पीड़ित है | इस बीमारी से ग्रस्त होने के दौरान इसका जल्द पता नही चलता है | आइये जानते है ऑस्टियोपोरोसिस होने के कारण –

ऑस्टियोपोरोसिस रोग होने के कारण

वशांनुगत के कारण – अगर बच्चे के माता पिता इस बीमारी से ग्रस्त हो चुके है , तो उनके बच्चे को भी ये बीमारी होने का खतरा बना रहता है |

गलत खानपान के कारण – हमें ऐसे खानपान का सेवन नही करना चाहिये , जिसमे प्रोटीन और कैल्शियम की मात्रा कम हो क्योंकि प्रोटीन और कैल्शियम की वजह से यह रोग  हमारे शरीर में जन्म लेता है |

अधिक आराम करने से – जो व्यक्ति अधिक आराम पसंद होते  है , उनको भी इस बीमारी का खतरा बना रहता है | इसीलिये आपको अपनी दिनचर्या में थोड़ी बहुत मेहनत जरुर करनी चाहिये |

कम वजन होने की वजह से – जो व्यक्ति अत्यधिक दुबले पतले होते है | उनको इस बीमारी का खतरा बहुत रहता है | क्योंकि उनके शरीर में बहुत से प्रोटीन की कमी होने के कारण उनकी हड्डियों में अधिक मजबूती नही होती है |

कुछ सामान्य लक्षण

  • बहुत जल्दी थक जाना  |
  • हड्डियों में बहुत तकलीफ का होना  |
  • शरीर में बार-बार दर्द का होना |
  • सुबह के वक्त कमर में बहुत दर्द होना |
  • छोटा सा फैक्चर भी ऑस्टियोपोरोसिस की वजह हो सकता है |

तो आपको डॉक्टरसे जरुर सलाह ले लेनी चाहिये , क्योंकि हड्डियों में दर्द या इस प्रकार की कोई भी समस्या ऑस्टियोपोरोसिस बीमारी होने का लक्षण माना जाता है | ऑस्टियोपोरोसिस होने के कई कारण माने जाते है |

तो आइये जानते है  इसके कारणों के बारे में |

आइये जानते है बचाब के कुछ आयुर्वेदिक उपाय :

सूखे प्लम के द्वारा उपचार

सूखे प्लम खाने से हमारे शरीर को प्रोटीन, सोडियम, पोलिफिनोल्स,  मैगनेशियम, कार्बोज, विटामिन जैसे तत्व मिलते हैं जो हमारी हड्डियों की कमजोरी को मिटाकर हड्डियों को मजबूती प्रदान करते है | जिससे हमारा शरीर ऑस्टियोपोरोसिस जैसी बीमारी से दूर रहता है |

सेब का सेवन भी इस रोग को खत्म करने में फायदेमंद होता है

सेब का सेवन करने से हमारे शरीर को पोलिफिनोल्स, एंटी-ऑक्सीडेंट खनिज द्रव्य, करबोहाईड्रेट, विटमिन A  व रंजक द्रव्य और फ्लेवनोइड्स जैसे तत्व हमारे हड्डियों को मजबूत बनाते है | अगर आप इस रोग से ग्रस्त है, तो सेब का सेवन करें | क्योंकि सेब इस बीमारी को बहुत जल्दी खत्म कर देता है |

नारियल के तेल की मालिश से

अगर आप इस  बीमारी से ग्रस्त है और अपनी हड्डियों को मजबूत बनाना चाहते है , तो आपको नियमित नारियल के तेल से अपने शरीर की मालिश करनी चाहिये | मालिश करने से हमारी हड्डियों को मजबूती मिलती है और हड्डी की समस्या बहुत जल्दी खत्म हो जाती है |

इस रोग के होने पर दूध से बनी सभी चीजो का अधिक सेवन करे

आपको अपनी दिनचर्या में दूध से बने सभी उत्पादों का सेवन अधिक से अधिक करना चाहिये | क्योंकि दूध का सेवन करने से हमारे शरीर को केल्शियम और विटामिन A, विटामिन बी-6, निसिन, एंटीऑक्सिडेंट व सिलेनियम जैसे तत्व मिलते है , जो हमारी हड्डियों को मजबूत व शरीर को स्वस्थ बनाते है |

धनिया के बीज से करे पूर्ण उपचार

धनिया के बीज में मैग्नीशियम, आयरन, कैल्सियम पोटेशियम और मैगनीज आदि पोषक तत्व होते है , जो आपको इस  बीमारी से लड़ने की शक्ति प्रदान करते है | इस बीमारी से निजात पाने के लिए आपको इसका सेवन पीसकर , शहद के साथ करना लाभदायक होता है |

हल्दी का सेवन करके

हल्दी में एंटी-इफ्लेमेंटरी, प्रोटीन, खनिज द्रव्य, करबोहाईड्रेट, विटमिन A, व रंजक द्रव्य जैसे प्रकृति के गुण के कारण ये हमारे शरीर को मजबूती प्रदान करती है | अगर आप भी इस समस्या से परेशान है | तो आपको रोजाना सोते समय इसका सेवन करना चाहिये |

अगर आप भी ऑस्टियोपोरोसिस जैसी बीमारी से ग्रस्त है | तो आपको ऊपर दिए हुये उपायों का पालन नियम से करना चाहिये |

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here