सुबह का आलस्य दूर कैसे करें ? – Laziness Of Morning In Hindi

0
214
सुबह का आलस्य दूर करने के घरेलु उपाय - Laziness Of Morning In Hindi

आलस्य दूर कैसे करें : किसी ने बिलकुल सच कहा है की आलस्य मनुष्य का दुश्मन होता है क्योकि जो लोग विलासिता बाला जीवन वयतीत करते हैं उनमे आलस्य आने की समस्या बहुत अधिक रहती है | बीमार और कमजोर होने पर आलस्य का आना एक सामान्य सी बात होती है मगर यह समस्या तो तब बन जाती है जब यह अच्छे खासे स्वस्थ लोगों को अपना शिकार बनाता है | अगर सबसे अधिक आलस आने के समय के बारे में बात की जाये तो यह सुबह का समय होता है | इस समय आलस्य आने से हम किसी भी काम को करने में बहुत अधिक समय लेते हैं जो बहुत से लोगों के साथ होता है | इस समस्या को आप कुछ घरेलु से उपायों का प्रयोग करके आसानी से दूर आकर सकते है | तो आइये जानते हैं आलस्य आने के कारण और दूर करने के घरेलु उपाय…

सुबह आलस्य आने के कारण

आलस्य आने के पीछे निम्न कारणों को जिम्मेदार माना जाता है…

  • जरुरत से ज्यादा खाना खाना
  • पूरी नींद न लेना
  • ज्यादा तनाव का होना
  • कमजोरी का होना
  • एक्सरसाइज न करने के कारण
  • बीमारी होने पर
  • नकारत्मक सोच होने पर

आलस्य दूर कैसे करें

सुबह का आलस्य दूर कैसे करें सुबह समय ऐसा होता है की हर इंसान को आलस्य आता है जिसे आप कुछ साधारण सी बातों को अपनी जीवन शैली में अपनाकर दूर कर सकते हैं | तो आइये जानते है सुबह के आलस्य को दूर करने के आसान से उपाय…

गलत खानपान को छोड़ दें

आपके द्वारा गलत खानपान का सेवन करने से आलस्य की समस्या बढ़ जाती है इससे बचने के लिए आपको विटामिन युक्त आहारों का सेवन करना चाहिए | इसके साथ ही खाना खाने के बाद तुरंत से सोयें नहीं बल्कि थोड़ी देर टहल लें या सैर कर आयें इससे खाना अच्छे से पाच जाता है और सुबह आलस्य नहीं आता है |

खाली पेट पानी पियें

पानी में शरीर को उर्जा देने वाले एंटी ओक्सिडेंट भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं इसलिए सुबह उठकर सबसे पहले एक गिलास पानी पीना लाभकारी होता है | अगर आप रत के रखे हुए पानी का सेवन करते हैं तो यह बहुत ही फायदेमंद होता है | पानी को बैठकर घूँट घूँट करके पीयें इससे काफी हद तक आलस्य की समस्या दूर हो जाती है |

स्ट्रेचिंग करें

सुबह उठकर स्ट्रेचिंग करना बहुत लाभकारी होता है, स्ट्रेचिंग करते समय हाथ, पैर को मोड़ा जाता है इससे काफी हद तक आलस्य समाप्त हो जाता है | सुबह उठते ही सभी अंगो जैसे हाथ, पैर, कोहनी और गर्दन की स्ट्रेचिंग करना चाहिए इससे आलस्य ख़त्म हो जाता है |

गहरी साँसे लें

सुबह उठकर खुली हवा में गहरी और लम्बी साँसे लेने से दिमाग तक शुद्ध ऑक्सीजन पहुँचती है जिससे शरीर में उर्जा और शक्ति रहती है और आलस्य ख़त्म हो जाता है | इस प्रक्रिया को आपको लगभग दो मिनट तक करना होता है |

पूरी नींद लें

रात में पर्याप्त लगभग आठ से दस घंटो की नींद लेना स्वस्थ और उर्जावान रहने के लिए जरूरी होता है इसलिए रात में पूरी नींद लें |अगर आपको नींद न आने की यानी अनिद्रा की समस्या है तो आप कुछ घरेलु उपायों द्वारा इसका उपचार कर सकते हैं | ( और पढ़े – अनिद्रा का घरेलु उपचार )

संतुलित आहार

रात में सोने से पहले संतुलित और स्वस्थ आहरों का ही सेवन करना चाहिए क्योकि ज्यादा या गलत खानपान से यह पच नहीं पाता है और सुबह आलस्य बना रहता है |

अच्छा सोचें

किसी भी काम को शुरू करने से पहले सकारात्मक और अच्छा सोचना चाहिए इससे शरीर में उर्जा बनी रहती है | जबकि बुरा या नकारात्मक सोच रखने से शरीर में आलस्य बना रहता है |

वयायाम और एक्सरसाइज

सुबह के समय नियम से रोजाना एक्सरसाइज और वयायाम करने से आलस्य से छुटकारा मिल जाता है | एक्सरसाइज के साथ आप कुछ योगासनों का प्रयोग करके भी सुबह के आलस्य को आसानी से समाप्त कर सकते हैं |

सफल लोगों से मोटिवेशन ले

किसी भी नए काम को शुरू करने से पहले और काम को करते समय भी आलस्य आने पर सफल लोगों के बारे में सोचना चाहिए जिससे आलस्य नहीं आता है |

कमजोरी को दूर करें

अगर आपको कमजोरी की समस्या है तो हो सकता है की आपको आलस्य आने की वजह यही हो | इसलिए आलस्य को दूर करने के लिए पहले कमजोरी का उपचार करवाना चाहिए | अगर आप चाहें तो कमजोरी की समस्या को दूर करने के लिए आप घरेलु उपायों का प्रयोग कर सकते हैं |

संगीत सुने

अगर आपको सुबह उठने के साथ दिन में काम करते समय आलस्य आता है तो आप अपना पसंद का गाना सुनके आलस्य को दूर कर सकते है साथ ही आप गाना सुनते सुनते भी काम कर सकते हैं |

थकान को दूर करें

थकावट के कारण भी आलस्य आने की समस्या हो सकती है इसलिए थकावट होने [पर आलस्य से बचने के लिए आप थकान को घरेलु उपायों द्वारा ठीक कर सकते हैं |

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.