इन्फ्लुएंजा या संक्रामक ज़ुकाम रोग क्या है

0
235
Influenza
Influenza

आज हम एक ऐसी बीमारी (Bimari) की बात करने वाले है जो सुनने में साधारण लगती है |इसके लक्षण (Influenza Symptoms) भी सामान्य है परन्तु बहुत ही घातक बीमारी (Bimari) है | दोस्त  इन्फ्लुएंजा (Influenza) जिसे फ्लू या श्लैष्मिक ज्वर भी कहा जाता है एक संक्रामक बीमारी(Bimari) है जो छुआ छुत से फैलने वाला रोग है

इस रोग का वायरस(Virus) अचानक से आपको संक्रमित करता है जिसका नाम इन्फ्लुएंजा (Influenza) वायरस (Virus) है जब यह वायरस(Virus) आपके शरीर में प्रवेश करता है तो एक से दो दिन तक शरीर  में कुछ भी महसूस नही होता है परन्तु फिर धीरे-धीरे इसके कुछ सामान्य लक्षण (Influenza Symptoms) दिखाई देने लगते है

  • जैसे ठण्ड के साथ बुखार चढना जो 100 से 103 डिग्री के बीच में रहता है
  • बुखार बढ़कर 106 डिग्री तक हो सकता है जो बेहद खतरनाक होता है
  • इस रोग में रोगी का अचानक से तेज सिरदर्द शुरु हो जाता है,
  • नाक व आँखों से पानी निकलना शुरु हो जाता है

पूरे शरीर की हडिडयों में दर्द होता है, छीकें आती है, गर्दन में अकडन रहती है, उल्टी या मिचली आती है, नींद नही आती है भूख नही लगती है,आंतो में दोष से दस्त की समस्या शुरु हो जाती है, पेशाब से सम्बन्धित कई समस्याये हो जाती है इस रोग से पीड़ित व्यक्ति कभी-कभी चिल्लाने भी लगता है रोगी को ऐसा महसूस होता है जैसे वो कोमा में हो, साँस लेने में रुकावट महसूस होती है इस रोग के कारण (Causes Of Influenza) शरीर के सभी अंगो में बीमारी (Bimari) का दौरा पड़ने लगता है इसलिये समय पर ही इसका इलाज (Ilaj) अच्छी तरह से न हुआ तो रोगी को अधिक परेशानी होने की संभावना रहती है जो जानलेवा हो सकती है |

दोस्तों ऐसी समस्याये होने पर रोगी को कुछ बातो का ध्यान रखना चाहिये जैसे भीड़ भाड वाले इलाके में नही जाना चाहिये ज्यादा थकान वाला काम नही करना चाहिये, गर्म पानी में नमक डालकर गरारे करना चाहिये, शरीर पर सरसों के तेल की मालिश करे आदि दोस्तों इस रोग की समस्या को कुछ घरेलु इलाजो द्वारा कम किया जा सकता है |

तो आइये जानते है इन्फ्लुएंजा (Influenza) से बचाव के कुछ घरेलु उपाय (Home Treatment  Of Influenza / Flu)

दालचीनी (Dalchini)

इन्फ्लुएंजा(Influenza) होने पर पांच ग्राम दालचीनी,(Dalchini) दो लौंग, चौथाई चम्मच सौठं को पीसकर एक किलो पानी में उवाले और एक चौथाई पानी रहने पर छान ले और पानी के तीन हिस्से कर दिन में तीन बार पीये |

पीपल(Pipal)

दूध में दो पीपल(Pipal) या चौथाई चम्मच सौठं डालकर उबाल कर पिये |

नींबू रस(Nimbu Ras)

शरीर के विभिन्न अंग और हडिड्यो में दर्द होने पर गर्म पानी में नींबू का रस(Nimbu Ka Ras) मिलाकर पिये फायदा मिलेगा |

नारंगी(Narangi)

ऐसा माना जाता है जब इन्फ्लुएंजा(Influenza) या महामारी फैली हो तो नारंगी(Narangi)का प्रयोग ज्यादा मात्रा में करना चाहिये |

अजवाइन(Ajwain)

1.3 ग्राम अजवाइन(Ajwain) और 3 ग्राम दालचीनी(Dalchini) दोनों को उबाल कर इनका पानी पिये |

शहद(Shahad)

इन्फ्लुएंजा(Influenza) होने पर शहद(Shahad) के सेवन से खांसी के कीटाणु नष्ट होते है |

तुलसी(Tulsi)

तुलसी(Tulsi) को पानी में उबालकर छानकर सेंधा नमक मिलाकर पिये फायदा मिलेगा |

अदरक(Adrak)

अदरक(Adrak) द्वारा इस रोग के फैलने से अच्छा बचाव होता है अदरक(Adrak) को पानी में उबालकर शक्कर मिलाकर पीने से फायदा मिलता है |

और पढे – (What Is Zika Virus?, Zika Virus Symptoms And Treatment, जीका वायरस का घरेलू उपचार.)

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.