संक्रमण के कारण लक्षण व बचाव

संक्रमण होने पर मनुष्यों में कई प्रकार की समस्या होने लगती है | मनुष्य कई प्रकार से संक्रमण से ग्रस्त हो सकता है | संक्रमण का मतलब होता है जब कोई बाहरी सूक्ष्म जीव प्रजनन करने के लिए हमारे शरीर का सहारा लेता है | जिसके कारण हम किसी रोग से ग्रस्त हो जाते है | इन जीवों को हम अपनी खुली आँखों से नही देख सकते है | इनकी वजह से होने वाले रोग छूआ-छूत के कारण भी फैलने लगते है | इन सूक्ष्म जीवों को कई नाम से जाना जाता है | जैसे

  • बैक्टीरिया
  • वायरस
  • कवक
  • प्रोटोजोवा
  • पैरासाईट
  • प्रायन

आदि होते है | कुछ संक्रमण होने पर हम अपना उपचार करवा के ठीक हो सकते है | लेकिन कुछ के कारण हमें अपनी जान से गवानी पड़ती है | हर साल पूरे विश्व में लगभग 50 लाख लोग संक्रमण के कारण अपनी जान गवा देते है | अब आइये जानते है | इन सूक्ष्म जीवों के द्वारा होने वाले संकर्मण के बारे में |

संक्रमण के प्रकार

बैक्टीरियल संक्रमण से होने वाली समस्या – बैक्टीरियल संक्रमण बैक्टीरिया के कारण होती है | जो हर प्रकार के वातावरण में अपने आप को ढाल लेते है | इसीलिए ये बहुत जल्दी मनुष्यों को प्रभावित भी कर देते है | इनकी वजह से कई प्रकार की समस्यों का सामना करना पड़ता है | जैसे

  • फ़ूड पोइजनिंग |
  • त्वचा की समस्या |
  • निमोनिया व टीबी की समस्या |
  • यौन संबंधी रोग |
  • पेट व सुजन व साइनस |

वायरल इन्फेक्शन से होने वाली समस्या – वायरल इन्फेक्शन वायरस के कारण हमारे शरीर को नुकसान पहुचाते है | ये मनुष्य के शरीर में बहुत आसानी से अपनी जगह बना लेते है | इनके शरीर में जगह बनाने के कुछ समय तक मनुष्य को लगता है | की वह स्वस्थ है | लेकिन वायरस के सक्रीय होते ही मनुष्य तुरंत किसी ना किसी बीमारी का शिकार हो जाता है | वायरस के कारण भी हमें कई बीमारियों का सामना करना पड़ता है |

  • जीका वायरस हो जाता है |
  • HIV ( और पढ़े HIV की जाँच )
  • डेंगू व स्वाइन फ्लू |
  • सर्दी जुखाम व पीलिया |
  • पोलियो, व इबोला आदि |

फंगल संक्रमण की परेशानी का सामना करना पड़ता है – मनुष्यों में फंगल संक्रमण केवल फंगस व कवक के कारण ही आती है | इनके सम्पर्क में आने से हमारे शरीर को कई प्रकार से नुकसान पहुचती है |

  • कैंडिडिआसिस की समस्या हो जाती है |
  • दाद व खुजली हो जाती है |
  • एथलीट फुट की समस्या ओने लगती है |
  • मुंह में थ्रश होने लगती है |

संक्रमण फैलने की वजह

अनुवांशिक कारणों की वजह – कभी कभी अनुवांशिक कारणों की वजह से हमारा शरीर इन्फेक्शन का शिकार हो जाता है |

कीड़ों के काटने की वजह से – कई बार मौसम बदलाव के कारण कई कीट हमारे शरीर को कट लेते है | जिसकी वजह से हमारा शरीर इन्फेक्शन का शिकार हो जाता है |

माँ से बच्चे को – अगर माँ किसी संकर्मण का शिकार है | तो उसके द्वारा बच्चे को भी वह बीमारी हो जाती है |

खराब वाशी भोजन की वजह से – खराब व वाशी खाना खाने से हमारा शरीर इन्फेक्शन से ग्रस्त हो जाता है |

किसी संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आने से – किसी इन्फेक्शन ग्रस्त वाले वयक्ती के पास बैठने से उसके द्वारा खासने व छीकने के कारण हमारे शरीर में भी वही इन्फेक्शन हो जाता है |

जानवरों की वजह से – कई बार हम घर में पाले जानवरों के साथ खेलने की वजह से भी किसी ना किसी इन्फेक्शन का शिकार हो जाते है |

टीके ना लगवाने की वजह से – अगर किसी बच्चे को सही समय पर टीके ना लगवाये जाये | तो अग्गे चलकर बच्चा किसी ना किसी गंभीर समस्या का शिकार हो जाता है |

इन्फेक्शन होने पर शारीर में दिखाई देने वाले लक्षण

  • खासी व बुखार आने लगता है |
  • दस्त होने लगते है |
  • थकान अधिक होने लगती है |
  • मांशपेशियो में दर्द अधिक होने लगता है |
  • शारीर पर दाने निकालने लगते है |
  • सिर में व शरीर में बहुत तेज दर्द होने लगता है |
  • आँखों की रोशनी कम होने लगती है |
  • साँस लेने में परेशानी का सामना करना पड़ता है |

संक्रमण से बचने के आसान तरीका

स्वस्थ भोजन करे

स्वस्थ भोजन करने से हमारे शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता मजबूत बनती है | जिससे हम किसी भी प्रकार के इन्फेक्शन का शिकार नही हो पाते है |

किसी संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आने से बचे

जब किसी संक्रमित व्यक्ति के पास जाये तो हमेशा मुंह पर मास्क का प्रयोग जरुर करे | ओर कुछ भी खाने से पहले अपने हाथ पैर को अच्छी तरह से जूरुर साफ़ करे |

रात को सोते समय मच्छरदानी का प्रयोग –

रात को सोते समय मच्छरदानी का प्रयोग करने से हम वातावरण में उड़ने वाले कीड़ो से बच जाते है | अगर हो सके तो अपने शरीर पर क्रीम का प्रयोग भी करे |

अपने शारीर को हमेशा को साफ रखे –

शारीर को साफ़ रखने से हमारे शरीर में होने वाले फगल इन्फेक्शन से कभी भी ग्रस्त नही होंगे |

HIV से बचने के लिए हमेशा इन बातों का ध्यान रखे

HIV जैसे इन्फेक्शन से बचने के लिए हमेशा इन बातों का जरुर ध्यान दे | हमेशा यौन सम्बंद बनाते समय कंडोम का प्रयोग करे | हमेशा साफ़ सुई से ही टीका लगवाये |

अगर आप भी किसी संक्रमण से ग्रस्त है | या फिर आप इनसे बचना चाहते है | तो आपको ऊपर दी हुई बातों को ध्यानपूर्वक पढना चाहिये | अगर आप हमसे कोई राय या किसी समस्या का उपचार लेना चाहते है | तो हमें हमारे कमेंट बॉक्स में जुरूर बताये |

और पढ़े – (फंगल संक्रमण का आयुर्वेदिक उपचार – Fungal Infection Treatment In Hindi)

डॉक्टर विक्रांत गौर

डॉक्टर विक्रांत गौर

(B.A.M.S.) रजिस्ट्रेशन न  - DBCP / A / 8062 पूर्व वरिष्ठ सलाहकार  जीवा आयुर्वेद दिल्ली ,  फरीदाबाद मेडिकल सेंटर ,पारख हॉस्पिटल फरीदाबाद में 5 साल का अनुभव  पाइल्स, हेयर फॉल, स्किन प्रॉब्लम, लिकोरिया रोगों  में एक्सपर्ट

Leave a comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.