क्या हाई ब्लड प्रेशर वालें को ग्रीन टी पीना चाहिये

हाई ब्लड प्रेशर में ग्रीन टी को सबसे अच्छा घरेलु उपचार माना जाता है | इसमें पाये जाने वाले एंटी-आक्सीडेंट, ,पॉलीफिनोल्स, एंटी इंफ्लेमेटरी, लौह, मैग्नेशियम, तथा कैल्शियम की मात्रा भरपूर होती है | ग्रीन टी में कैफीन की मात्रा बहुत ही कम होती है | इसी वजह से ग्रीन टी हाई ब्लड प्रेशर के मरीजो के लिये बहुत लाभदायक साबित होती है | हाई ब्लड प्रेशर वाले व्यक्तिओं को ग्रीन टी का नियमित सेवन करना चाहिये |

हाई ब्लड प्रेशर होने पर किस प्रकार करे ग्रीन टी का सेवन

अगर आपको दिन में कई बार हाई ब्लड प्रेशर से परेशानी हो रही है तो सबसे पहले एक चम्मच ग्रीन टी लें| फिर दो कप पानी को भाप पर गर्म करे फिर उसमे एक छोटा चम्मच ग्रीन टी को डाले और इसको केवल दो मिनट ही भाप पर गर्म करे | फिर इसको छानकर एक कप में डाल ले और अपने स्वाद अनुसार इसमें शहद को डालें| ध्यान रहे की इसमें आपको चीनी नही मिलानी है | इस प्रकार आपको इसका सेवन कम से कम एक हफ्ते सुबह शाम करना है | जिससे आपकी हाई ब्लड प्रेशर की समस्या बहुत जल्द ठीक हो जाएगी |

हाई ब्लड प्रेशर में ग्रीन टी प्रयोग करते समय इन बातों का ध्यान रखे

  • ग्रीन टी को बनाते समय दूध का बिल्कुल भी प्रयोग ना करे | दूध डालने से इसका असर बहुत कम हो जाता है |
  • ग्रीन टी को मीठा बनाने के लिये चीनी का भी प्रयोग ना करे | इसकी जगह आपको शहद का प्रयोग करना चाहिये |
  • हाई ब्लड प्रेशर के मरीजो को ग्रीन टी भाप में ही बनानी चाहिये | भाप में ग्रीन टी को बनाने से इसके अन्दर के एंटी-आक्सीडेंट खत्म नही होते है |
  • ग्रीन टी को अधिक समय तक पानी में ना उवाले क्योंकि अधिक समय पानी में उबालने से इसका स्वाद कड़वा हो जाता है | और ये हाई ब्लड प्रेशर में अपना असर नही दिखा पाती है|
  • अगर आप चाहे तो ग्रीन टी को बनाने के लिये इसमें अदरक, तुलसी के पत्तो, या फिर नीबू को डाल सकते है | जिससे आपको अपनी इस समस्या में बहुत आराम मिलेगा |
  • हाई ब्लड प्रेशर में ग्रीन टी को पीने के बाद आपको चाय या काफी का सेवन बिल्कुल भी नही करना चाहिये |

ग्रीन टी के सेवन से करे ह्रदय रोग को दूर

ग्रीन टी के एंटी-आक्सीडेंट व अन्य तत्व हमारे ह्रदय को स्वस्थ रखने व इससे जुडी सभी समस्याओं को दूर करने में हमारी बहुत मदद करते है | इस बात की पुष्टि जापान के वैज्ञानिकों द्वारा भी की जा चुकी है | इसके सेवन से ग्रीन टी हमारे रक्त संचार को ठीक करके हमारे शरीर को ह्रदय रोग से दूर करती है | जापान के नेशनल सेरेबरल एंड काडिर्योवैसक्युलर सेंटर के प्रमुख शोधकर्ता योशिहिरो कोकुबो ने अपनी शौध में पाया की 40 से 50 वर्ष की आयु वाले व्यक्तिओ को नियमित ग्रीन टी का सेवन करने से उन व्यक्तिओ को हृदयाघात का खतरा काफी कम हो जाता है|

वजन कम करने में भी लाभदायक होती है ग्रीन टी

ग्रीन टी में क्लोरोजेनिक एसिड भरपूर मात्रा में पाया जाता है| क्लोरोजेनिक एसिड के मेटाबॉलिज्‍म पर होने वाले सकारात्‍मक प्रभावों से हम अपने वजन को नियंत्रित कर सकते है| जो हमारे वजन को जल्दी कम करने में हमारी बहुत मदद करता है | क्लोरोजेनिक एसिड हमारे स्‍टार्च से शर्करा तथा वसा के संयोगिकों को अच्‍छी तरह अवशोषित कर हमारी चर्बी को कम करने लगता है | अगर आप अपने वजन को जल्दी कम करना चाहते है तो आपको ग्रीन टी का सेवन नियमित रूप से सुबह शाम करना चाहिये |

ग्रीन टी से करें अन्य समस्याओं को भी दूर

ग्रीन टी कैमेलिया साइनेन्सिस नामक पौधे की पत्तियों से बनायी जाती है | इसको बनाने की प्रक्रिया में ऑक्सीकरण बहुत कम होता है| इसीलिये ये चाय आपके शरीर की कई बिमारियों को दूर करने में भी आपकी बहुत मदद करती है |

इसके नियमित सेवन से इसमें पाये जाने वाले पॉलीफिनोल्स, एंटी इंफ्लेमेटरी, लौह, व मैग्नेशियम हमारे शरीर से हृदय रोग, कोलेस्ट्राल, हाई ब्लड प्रेशर, वजन व वसा कम करने में, कैंसर, व खाना पचाने में भी आपकी बहुत मदद करती है | ग्रीन टी जीवाणु और विषाणु से होने वाले संक्रमण से भी आपकी रक्षा करती है |

अगर आप भी उच्च रक्त चाप की समस्या से जूझ रहे है तो आज से ही अपने जीवन में ग्रीन टी का इस्तेमाल जोड़ ले | जिससे आपके हाई ब्लड प्रेशर की समस्या जल्द दूर हो जाएगी |

और पढ़े -( हाई ब्लड प्रेशर होने के कारण व इलाज)

डॉक्टर विक्रांत गौर

डॉक्टर विक्रांत गौर

(B.A.M.S.) रजिस्ट्रेशन न  - DBCP / A / 8062 पूर्व वरिष्ठ सलाहकार  जीवा आयुर्वेद दिल्ली ,  फरीदाबाद मेडिकल सेंटर ,पारख हॉस्पिटल फरीदाबाद में 5 साल का अनुभव  पाइल्स, हेयर फॉल, स्किन प्रॉब्लम, लिकोरिया रोगों  में एक्सपर्ट

Leave a comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.