इस दीवाली 2019 पर रखें इन बातो का ख्याल नही रखा तो हो सकते है बीमार |

0
308
Diwali
Diwali

दोस्तों रोशनी का त्यौहार दीवाली  आ चुका है इस त्योहार को बड़े पैमाने पर मनाया जाता है लेकिन लापरवाही करने पर त्योहार  का मजा बेकार हो सकता है दीवाली  के मौके पर पटाखे  जलाने के दरम्यान बहुत से लोगो के जल जाने की शिकायते आती है प्रदोषण और तेज धमाके की वजह से आँखों में जलन, दम घुटने और हार्ट अटैक व कान बंद होने जैसी दिक्कते भी सामने आती है फेस्टिव सीजन में लोग तरह – तरह का खाना खाते है लेकिन ऐसे मौको पर खासतौर से एतिहात बरतना जरूरी होता है आप दोस्तों, रिश्तेदारों की रिक्वेस्ट को मानने के चक्कर में अपनी सेहत को न भूले सेहत का ध्यान रखे क्योकि इन दिनों नकली मिठाइयो की बिक्री जोरो पर होती है इनका सेहत पर बुरा असर पड़ता है |

दीवाली के मौके पर पटाखों (Crackers) से निकलने वाली Sulpher Dioxide और Nitrojen Oxide जैसी Toxim Ges व Lead जैसे Particals की वजह से अस्थमा और दिल के मरीजो की दिक्कते कई गुना बढ़ जाती है दोस्तों इन सब बातो को जानकर हम कई ऐसी साधारण सी बातों को ध्यान में रखकर इन समस्याओ से बच सकते है तो आइये जानते है कि कैसे मनाये दीवाली जिससे हम सुरक्षित रहे |

दीवाली 2019 पर रहें पटाखों से सुरक्षित

    • हमेशा लाइसेंस धारी और विश्वसनीय दुकानों से ही पटाखे खरीदे |
    • पटाखे जलाने से पहले खुली जगह पर जाये |
    • पटाखे जलाने के लिये स्पार्कलर अगरबत्ती अथवा लकड़ी का इस्तेमाल करे ताकि पटाखे से आपका हाथ दूर रहे और जलने का खतरा न हो |
    • पटाखे जलाते वक्त पैरो में जूते चप्पल जरुर पहने |
    • हमेशा पटाखे जलाते वक्त अपना चेहरा दूर रखे |
    • कम से कम एक बाल्टी पानी भरकर नजदीक रख ले |
    • रॉकेट जैसे पटाखे तब बिल्कुल न जलाये जब कोई रुकावट हो जैसे पेड़ आदि |
    • सड़क पर पटाखे बिल्कुल न जलाये |
    • कभी भी छोटे बच्चो को पटाखे न दे |
    • आँख में हल्की चिनगारी लगने पर भी उसे हाथ से मसलें नही सादे पानी से आँखो को धोये और जल्दी से डॉक्टर को दिखाये |
    • ऐसे पटाखों से 4 मीटर की दूरी रखे जिनसे 125 डेसिबल से ज्यादा शोर हो |
    • 120 से 155 डेसिबल से ज्यादा तेज शोर हमारे सुनने की शक्ति को खराब कर सकता है इसके साथ ही कानो में बहुत तेज दर्द भी हो सकता है |
    • परेशानी से बचने के लिये अस्थमा व दिल के मरीज पटाखे जलाने से बचे |
    • साँस के साथ प्रदूषणअंदर जाने से रोकने के लिये मुंह पर गीला रुमाल रखे अस्थमा के मरीज इनहेलर और दवाये आदि नियमित रूप से लें |
    • त्योहारों पर देर रात में हल्का खाना खाये हेवी खाना खाने से भारीपन महसूस हो सकता है और रात में हार्ट  की समस्या हो सकती है |
    • पैक्ड जूस  में सोडियम काफी ज्यादा होता है इससे ब्लड प्रेशर बढ़ सकता है |
    • हर चीज को लिमिट में इस्तेमाल करे ज्यादा मात्रा में मेवा  भी परेशानी का सबब बन सकता है
    • जहाँ तक हो सके घर की बनी फ्रेश चीजों, ताजे फल व जूस  का प्रयोग करे |
    • खोये के बजाये पेठे जैसी सूखी मिठाइयों इस्तेमाल करे |
  • खाने में ज्यादा तली भुनी चीजो के बजाय लाइट चीजें खाये |

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.