फाइब्रोमायल्जिया को फाइब्रोसाइटिस के नाम से भी जाना जाता है | कई डॉक्टर्स के मतानुसार यह रोग केवल मानसिक तनाव के कारण जन्म लेता है, लेकिन कई डॉक्टर्स का यह भी मानना है कि यह संक्रमण, शारीरिक चोट, व किसी सर्जरी के द्वारा भी यह रोग आपको अपनी गिरफ्त में ले सकता है | इस रोग के कारण पीड़ित व्यक्ति की मांशपेशियों में दर्द, नींद न आना, मस्तिष्क का कमजोर होना  व थकान जैसी समस्या होने लगती है | यह रोग पुरुषों के मुकाबले महिलाओं में अधिक देखा जाता है | अभी तक डॉक्टर्स के पास इस बीमारी का कोई सफल इलाज उपलब्ध नही है पर कुछ दवा व बचाव के द्वारा इस बीमारी को काफी हद तह नियंत्रित किया जा सकत है

फाइब्रोसाइटिस के लक्षण :

  • वयापक दर्द होना
  • शरीर में जकड़न
  • अत्यधिक संवेदनशीलता
  • मांसपेशियों में ऐंठन
  • अत्यधिक थकान
  • अनिद्रा होना
  • स्मरण शक्ति कमजोर होना
  • सिर दर्द होना
  • इर्रिटेबल बोवेल सिंड्रोम होना
  • डिप्रेशन व चिंता होना

फाइब्रोमायल्जिया की वजह :

  • दिमागी हार्मोन्स असंतुलन के कारण – एड्रेनालाईन, सेरोटोनिन व डोपामाइन जैसे दिमागी हार्मोन्स के असंतुलन के कारण यह बीमारी जन्म ले सकती है |
  • अनुवांशिक वजह से
  • तनाव के कारण
  • वायरल संक्रमण के कारण
  • मांसपेशियों व हड्डियों में चोट के कारण
  • रूमेटिक रोग के कारण

इस बीमारी से बचाव  

  • अधिक नींद न ले
  • मानसिक तनाव न ले
  • नियमित वयायाम करे
  • संतुलित आहार का सेवन करे
  • नियमित योगा करे

इस बीमारी में दी जाने वाली दवा

दवाई का नामपॉवर ( MG )लेने का समय
अमितोप प्लस25 MGडॉक्टर की सलाह से
एक्सिनर्वस पी150MGडॉक्टर की सलाह से
कॉट्रिप फोर्टे100MGडॉक्टर की सलाह से
Dottrip25MGडॉक्टर की सलाह से
Dulife50MGडॉक्टर की सलाह से
Duzela M100MGडॉक्टर की सलाह से
एपलारीका एम.पी.200MGडॉक्टर की सलाह से
Gabacure Nt150MGडॉक्टर की सलाह से
केटोफ्लाम पी100MGडॉक्टर की सलाह से

मानवेन्द्र सिंह

मानवेंद्र सिंह सॉफ्ट प्रमोशन टेक्नोलॉजी प्राइवेट लिमिटेड में फिटनेस और हेल्थ ब्लॉगर हैं। उन्होंने 2006 में BHM स्नातक की डिग्री ली है। उन्हें स्वास्थ्य एवं विज्ञान अनुसंधान के क्षेत्र में लेखन का आनंद मिलता है।

Leave a comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.