बुखार का उपचार – Fever Treatment in hindi

0
201

बुखार के बारे में हम सब जानते है की हमारे शरीर का सामान्य तापमान 98.6 डिग्री F होता है|जब हमारे शरीर का यह तापमान स्तिथि से कम या ज्यादा हो जाये तो उसे हम बुखार कहते है | हम आपको बता दे की बुखार कोई रोग या बीमारी नहीं है यह केवल रोग का एक लक्षण है जो की हमे यह बताता है की शरीर मे संक्रमण बढ़ गया है जो किसी भी बीमारी का संकेत है |

विभिन्न प्रकार के बुखार:

  •  मलेरिया
  • चिकनगुनिया
  •  टॉयफाईड
  •  डेंगू
  • मस्तिष्क ज्वर
  •  गाठिया
  • श्वास से जुड़े रोग जैसे सर्दी,झुकाम,खासी आदि |

बुखार के होने वाले कारण :

1.मौसम मे परिवर्तन : मौसम के बार बार बदलने से हमारे शरीर बका तामपान भी बार बार बदलता रहता है जिसके कारण से हमे भुखार हो जाता हैं|

2. नींद पूरी न होने से : कभी कभी फीवर का कारण हमारी नींद भी होती है जब कभी हमारी नींद पूरी नहीं होती है तो हमे बहुत ज्यादा थकावट सी महसूस होती है जो की बुखार का ही कारण होती है |इसलिए जरूरी है की पर्याप्त नींद ले|

3. थकान के कारण : जब भी हम कभी अपनी छमता से अधिक काम कर लेते है तो शरीर मे थकावट के कारण भी हमे बुखार आ जाता है |

4. मानसिक चिंता होने से :जब भी हम कभी अपने दिमाग पर काफी ज्यादा जोर देते है या कुछ ज्यादा ही सोच लेते है तो कभी कभी इस मानसिक तनाव के कारण भी हमे यह आ जाता है |

बुखार के कुछ सामन्य लक्षण:

1. शरीर का सुस्त हो जाना
2. कमजोरी महसूस होना
3. हाथ पैरो के जोड़ो मे दर्द होना
4. बार – बार पसीना आना
5. शरीर की त्वचा मे गर्माहट आना
6 . सिर दर्द होना
7. नींद जादा आना
8 . बेहोसी या चक्कर का आना
9. भूख ना लगना
10. 100.4 F(38 C ) से अधिक शरीर का तापमान होना |

बुखार दूर करने के अपने घरेलु उपाए :

1. उबला हुआ पानी ले :

पानी को एक बीकर मे अच्छे से उबालकर रख ले फिर  दिन मे फिर वही पानी पिये और दूसरा कोई पानी फीवर के समय पानी ना पिये |

2. अंडे का सेवन करे :

उबले हुए अंडे खाने से भी बुखार मे काफी राहत मिलती हैं|

3. कच्चे आम से :

अगर आप को लू के कारण फीवर आया है तो आप कच्चे आम के रस को उबालकर भी पी सकते है यह हमारे शरीर की अन्दर की गर्मी को ठंडा करने मैं काफी सहायक होता है|

4. पुदीने ओर अदरक का काड़ा पीने से :

पुदीने ओर अदरक का काड़ा पीने से भी बुखार मे काफी आराम मिलता है लेकिन एक बात का ध्यान रखे यह काड़ा पीने के बाद घर से बहार ना निकले घर मे ही आराम करे |

5. पानी अधिक मात्रा मे पिये :

बुखार से पीड़ित व्यक्ति को जादा से जादा पानी दे जिससे की शरीर मैं पानी की कमी ना हो पाए ओर हम ग्लूकोज़ के साथ भी पानी दे सकते है |

6. हर्बल चाय बना कर पिये :

तुलसी एक आयुवेदिक जड़ी बूटी है जो हमारे घरो मैं आसानी से मिल जाती है ओर हम बुखार मे तुलसी की चाय मे काली मिर्च को मिलाकर पीने से बुखार मे काफी राहत मिलतीं है |

7. लहसुन का पानी पिये :

एक लहसुन को छोटा छोटा काट क्र पानी के साथ उबाल ले ओर फिर इस पानी को धीरे धीएरे पिये तो यह बुखार दुबारा ना आने मे सहायक होता है ओर बुखार के लक्षणओ से बी बचाता है |

8 .ठंडे पदार्थो का सेवन करे :

बुखार मे शरीर का तापमान काफी बाद जाता है तो ऐसे मे हम ठंडी चीजो का सेवन क्र सकते है जिससे की तापमान कम हो जैसे दही,फलो का रस या फिर हम आइसक्रीम बी खा सकते है|

और पढे –चिकनगुनिया के लक्षण

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.