डीपीटी वैक्सीन की जानकारी – DPT Vaccine In Hindi

0
182
डीपीटी वैक्सीन kya hai

डीपीटी वैक्सीन का प्रयोग टीके के रूप में किया जाता है | यह टीका बच्चों को बीमारी जैसी समस्या को खत्म करने के लिए दिया जाता है | यह टीके द्वारा हम अपने बच्चे को पर्टुसिस, टेटनस, डिप्थीरिया व संक्रामक रोग रोग जैसी समस्या का इलाज आसानी से कर सकते है | इस टीके को लगवाने से बच्चे की रोग प्रतिरोधक क्षमता में भी बहुत बढ़ोतरी होती है | जो शिशु को कई प्रकार की जानलेवा बीमारी में मदद करता है | आइये जानते है इन बीमारियों के बारे में विस्तार से |

डिप्थीरिया क समस्या रोकने के लिए दिया जाता है

डिप्थीरिया के कारण बच्चों को साँस लेने में बहुत तकलीफ होने लगती है | जिसके कारण , लकवा और हार्ट फेल भी हो सकता है |

टिटनेस की समस्या को खत्म करने के लिए दिया जाता है

टिटनेस एक प्रकार की गंभीर बैक्टीरियल बीमारी है | जो धूल मट्टी के कारण बच्चे के शरीर में जन्म ले सकती है | इस बीमारी की वजह से मांसपेशियां सिकुड़ने लगती हैं | जिसके कारण बहुत तेज दर्द का सामना करना पड़ता है |

कांली खांसी की समस्या को रोकने के लिए दिया जाता है

कांली खांसी बच्चो को होने वाली एक गंभीर समस्या है | जिसकी वजह से बच्चों को खाने, पीने और सांस लेने में तकलीफ होने लगती है | अगर इस समस्या का इलाज सही समय पर नही किया गया | तो इससे बच्चे की जान भी जा सकती है |

इन्ही बीमारी को ध्यान में रखकर 1980 में पहली बार इस टीके का निर्माण किया गया | इस टीके को दो महीने के बच्चे से लेकर 15 वर्ष के बच्चों को दिया जाता है | दोस्तो आइये जानते इस टीके के बारे में विस्तार से |

डीपीटी वैक्सीन को कैसे बनाया जाता है

डीपीटी वैक्सीन को कई प्रकार की वैक्सीन के साथ मिलकर बनाया जाता है | आइये जानते है उन वैक्सीन के बारे में विस्तार से

पेंटावेलेंट वैक्सीन युक्त होता है डीपीटी वैक्सीन

डीपीटी वैक्सीन को बनाने में एचआईबी व एचईपीबी जैसी वैक्सीन को मिलाया जाता है | जो हेपेटाइटिस जैसी समस्या को खत्म करने में हमारी मदद करती है |

क्वाड्रीवेलेंट वैक्सीन का प्रयोग किया जाता है

इस टीके के साथ एचआईबी को हिमोफिलस इंफ्लुएंजा टाइप बी जैसी बीमारी से बचाव के लिए मिलाया जाता है |

हेक्सावेलेंट वैक्सीन के द्वारा बनाई जाती है डीपीटी वैक्सीन

डीपीटी वैक्सीन में एचआईबी व एचईपीबी के साथ साथ आईपीवी जैसी वैक्सीन को भी मिलाया जाता है | जो बच्चे के शरीर को कई प्रकार के संकर्मण से दूर रख सके |

कितने प्रकार की होती है डीपीटी वैक्सीन

डीपीटी वैक्सीन दो प्रकार की होती है |

  1. डीटीएपी
  2. डीटीडब्लूपी

यह दोनों टीके में मौजूद बैक्टीरिया की मात्रा अलग अलग होती है | यह अगर बात करे
डीटीडब्लूपी – डीटीडब्लूपी का प्रयोग खास तौर से काली खांसी के बैक्टीरिया की कोशिकाओं के द्वारा बने जाती है | जो बच्चे को काली खांसी की समस्या से बचाते है | डीटीडब्लूपी को बनाने के लिए पूर्णरूप से बैक्टीरिया का प्रयोग नही किया जाता है | बैक्टीरिया के कुछ हिस्सों द्वारा इसको बनाया जाता है | जिससे बच्चे को किसी भी प्रकार का कोई नुकसान ना हो सके | डीटीडब्लूपी बच्चों को प्रभावी रूप से सुरक्षा प्रदान करता है

डीटीएपी – डीटीएपी को दर्द रोधक दवा के रूप में जाना जाता है | जबकि डीटीडब्लूपी को लगवाने से व्यक्ति को अधिक दर्द का सामना करना पड़ता है |

कब लगवाया जाता है डीपीटी का टीका

डीपीटी का टीका कई चरणों में लगवाया जाता है बच्चों को डीपीटी की 5 खुराक दी जाती है | आइये जानते है उन खुराक के बारे में

  • 2 महीने
  • 4 महीने
  • 6 महीने
  • 15 से 18 महीने
  • 4 से 6 साल
  • 11 से 12 साल में डीपीटी बूस्टर टीडीएपी की खुराक दी जाती है | लेकिन हर दस साल में एक बार इस टीके को जरुर लगवाना चाहिये |

डीपीटी वैक्सीन के द्वारा होने वाले नुकसान

डीपीटी वैक्सीन द्वारा बच्चो को कई प्रकार के नुकसान देखने को मिलते है | पर ये कुछ ही दिनों में अपने आप ठीक भी हो जाते है | इसीलिए इससे डरने की कोई बात नही है | आइये जानते है | इसके साइड इफेक्ट के बारे में

  • इंजेक्शन की जगह पर सूजन का आना |
  • इंजेक्शन की जगह पर लगातार दर्द होना |

टीका लगाने के कुछ दिनों बाद बैचेनी होना, भूख कम लगना और उल्टी की समस्या का होना |
डीपीटी के चौथी और पाचवे टीके के बाद पैरों में सूजन का आना |

अब आइये जानते इससे जुड़े कुछ सवाल के बारे में

क्या बिल्ली के खरोचने के बाद डीपीटी टीका लगवा सकते है ?
अगर आपकी बिल्ली न्यूरोट्रोपिक लाइसिसिवर्स वायरस से ग्रस्त है | तो आपको जरुर डीपीटी का टीका लगवाना चाहिये | इससे आपको टिटनेस की समस्या नही होगी |

डीपीटी वैक्सीन कटने दिनों तक हमारी रक्षा करता है ?
डीपीटी वैक्सीन को लगवाने के बाद आपको दस साल तक इस टीके की जरुरत नही पड़ती है | लेकिन दस साल बाद जरुर इस टीके को लगवाये |

डीपीटी वैक्सीन की पहली खुराक के बाद दूसरी खुराक कब लगवाये ?
डीपीटी वैक्सीन की पहली खुराक के बाद दूसरी खुराक लगवाने के लिए आपको अपने बच्चे को दो महीने तक रुकना चाहिये | उससे पहले इस खुराक को ना ले |

और पढ़े – Migraine Symptoms, Causes And Treatment. माइग्रेन व सिर दर्द का इलाज घर पर करे

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.