मधुमेह

शुगर के लिए योग : शुगर की बीमारी की शुरुआत हमारी गलत खानपान और गलत आदतों के कारण ही शुगर हमारे शरीर में जन्म लेने लगती है | इसके शुरूआती लक्षण इस प्रकार के होते है |

  • थकान का अधिक महसूस होना
  • पेशाब अधिक आना,अत्यधिक प्यास लगना
  • आंखें का कमज़ोर होना,वज़न कम होना
  • अधिक भूख लगना,त्वचा के रोग होना
  • घाव का जल्दी न भरना

आनुवंशिक कारणों से भी ये बीमारी आपको हो सकती है|

अगर आपको ये  लक्षणों के नज़र आते ही अपना इलाज करवा लेना चाहिये|आज हम आपको मधुमेह  का इलाज योगा से कैसे करे इसके बारे में जानकारी देंगे|क्यूकि शुगर जैसी बीमारी का इलाज अगर सही समय पर ना कराया जाये तो ये आगे चलकर एक खतरनाक रूप धारण कर लेती है|शुगर होने की वजह शरीर में पैंक्रियाज नामक ग्रंथि इंसुलिन बनाना बंद कर देती है|जिसके कारण आपको शुगर जैसी बीमारी हो जाती है|

शुगर के लिए योग

वक्रासन करे

वक्’ का अर्थ होता है टेढ़ा | इस आसन को करने में हमारी रीढ़ की हड्डी टेढ़ी व मुड़ी हुई होती है | इसीलिए इसका नाम वक्रासन है | इस आसन को करने से हम आसानी से शुगर का उपचार कर सकते है | यह आसन हमारे अग्न्याशय को ठीक करता है|जो शुगर के मरीजो के लिये अच्छा होता है|तो आइये जानते है | इस आसन को करने की विधि

वक्रासन करने का तरीका

1- सबसे पहले अपने पांवों को फैलाकर जमीन पर बैठ जाये|
2- फिर अपने बाएं पांव को घुटने से मोड़ें तथा अपने पैर का दाएं घुटने के बगल में रखें|
3- अपनी रीढ़ की हड्डी को सीधी रखें तथा सांस को छोड़ते समय कमर को बाईं ओर मोड़ें |

4- फिर अपनी दाईं बांह को अपने बाएं पैर की ओर इस तरह लाएं कि दाईं बांह का बाहरी हिस्सा बाएं पांव के बाहरी हिस्से को अच्छी तरह से स्पर्श कर सके और फिर अपना दायां हाथ बाएं पैर के नजदीक रखें |
5- फिर अपनी बाईं बांह को पीछे की ओर ले जाएं फिर अपनी हथेली को जमीन पर इस तरह रखें कि आपका शरीर टेढ़ा होकर भी सीधा तना रहे सके|

इस प्रकार की क्रिया को तीन से चार बार दोहराए इस प्रकार के आसन को करने से आपका शरीर तो स्वस्थ रहेगा ही साथ साथ आपकी बीमारी भी धीरे धीरे ठीक होने लगेगी|

शीर्षासन – शुगर के लिए योग

शीर्ष का मतलब सिर होता है|इस आसन को करने के लिये मनुष्य को अपने सर के भल खड़ा होना पड़ता है | इसी लिये इसको शीर्षासन कहते है|इस आसन को करने से सिर में रक्त का प्रवाह बढ़ता है|जिससे हमारे दिमाग की स्मृति तेज होने लगती है|

इस आसन को करने से हमारी स्रावी गंथियों भी स्वस्थ बनी रहती है|शुगर के मरीज को इस आसन से बहुत फायदा मिलता है|इस आसन को करने से हमारी पिटुइटरी ग्रंथि को ठीक कर देता है|जिससे शुगर के मरीजो को बहुत आराम मिलता है|तो आइये जानते है की किस तरह हम इस आसन को कर सकते है|

शीर्षासन करने का तरीका

1- सबसे पहले आप एक कपडे को मोड़ कर जमीन पर रख दे फिर अपने घुटनों के बल झुक जाएं|
2- फिर अपनी अंगुलियों को आपस में कसकर जकड़ लें फिर अपनी हथेलियों की एक प्याली बनाएं फिर अपनी हथेलियों को कपडे पर रख दे
3- फिर अपने सिर को कपड़े पर इस तरह से रखें|जिससे आपके सिर का ऊपरी भाग आपकी हथेलियों को स्पर्श करता रहे|
4- फिर अपने पंजों को सिर की ओर खींचते हुए अपने घुटनों को जमीन से उठाकर ऊपर की और लें जाये|
5- जब आपका इस स्थिति में शरीर का सही तरह से संतुलन बन जाए|तो आप धीरे-धीरे अपने पांव को सीधे करते जाये|जब आप अपने पांवों को सीधा कर ले फिर इसी मुद्रा में तोड़ी देर तक रहे इस क्रिया को दो से तीन बार दोहराए|

मयूरासन – शुगर के लिए योग

इस आसन का मतलब मोर होता है|इस आसन को करते वक़्त हमारा शरीर मोर की तरह दिखता है|इस आसन को करने से हमारे शरीर को शुगर से छुटकारा मिल जाता है|तो आइये जानते है की किस तरह हम इस आसन को कर सकते है|

मयूरासन करने का तरीका

1- सबसे पहले आप वज्रासन की मुद्रा में बैठ जाये|फिर अपने घुटनों को फैलाकर जमीन पर घुटनों के बल बैठ जाएं|
2- फिर अपने शरीर को आगे किओ ओर झुकाकर अपने हाथों की अंगुलियां को फैलाएं और अपने पैरों की दिशा में रखते हुए अपनी हथेलियों को जमीन पर टिका दे|
3- फिर अपनी बाहों के अगले हिस्से को एक साथ रखे और अपनी कोहनियां मोड़ें फिर  कोहनियों को अपने पेडू वाले क्षेत्र के दोनों ओर रख दे तथा अपनी छाती को अपनी बांहों के ऊपरी हिस्से के पिछले भाग पर टिकाएं |
4- फिर अपने दोनों पांव धीरे धीरे फैलाएं|फिर अपने पांवों को एक साथ रखते हुए धीरे-धीरे आगे की ओर बढ़ें |
5- फिर अपने शरीर के भार को अपने हाथों और कलाइयों का सहारा लेते हुये अपने पांवों को जमीन से उठा लें |
6- फिर अपने सिर तथा धड़ को आगे की ओर धकेलें और जब तक हो सके इसी मुद्रा में रहे और अपने पांव को को पीछे की और फैलाते रहे |

इसी तरह इस आसन को कमसे कम तीन बार दोहराए | इस आसन को करने से आपको शुगर जैसी बीमारी में काफी हद तक राहत मिलेगी|
अगर आप भी शुगर जैसी बीमारी से परेशान है | तो आज से ही अपनी दिनचर्या में इन योग को जोड़े जिससे आपको शुगर में काफी राहत मिलेगी |

और आपका शरीर बीमारियों से कोसो दूर रहेगा|योगा किसी भी बीमारी का सबसे अच्छा घरेलु उपचार माना जाता है | योगा के द्वारा हम किसी भी बीमारी का इलाज घर बैठे ही कर सकते है |

डॉक्टर विक्रांत गौर

डॉक्टर विक्रांत गौर

(B.A.M.S.) रजिस्ट्रेशन न  - DBCP / A / 8062 पूर्व वरिष्ठ सलाहकार  जीवा आयुर्वेद दिल्ली ,  फरीदाबाद मेडिकल सेंटर ,पारख हॉस्पिटल फरीदाबाद में 5 साल का अनुभव  पाइल्स, हेयर फॉल, स्किन प्रॉब्लम, लिकोरिया रोगों  में एक्सपर्ट

Leave a comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.