विटामिन बी की कमी से होने वाले रोग : इस पोस्ट में आप जानेंगे विटामिन बी की कमी (Deficiency of Vitamin B)  से होने वाले रोगों और उनके उपचार के बारे में। हमने विस्तारपूर्वक यह भी बताया है कि वे कौन से खाद्य पदार्थ होते हैं जिनमें विटामिन बी (Rich Sources of Vitamin B) की अच्छी खासी मात्रा पाई जाती हैं, जिनका सेवन करके आप विटामिन बी की कमी से होने वाले रोगों से खुद को बचा सकते हैं। 

विषय सूची

क्या होता है विटामिन बी? 

यह एक प्रकार का कॉम्प्लेक्स होता है जो कि हमारे शरीर के लगभग हर हिस्से के लिए जरूरी होता है। ताकि हमारा शरीर स्वस्थ रह सकें और सामान्य रूप से काम करें इसके लिए भी विटामिन बी अति आवश्यक होता है। विटामिन बी की वजह से आंख, बाल, लिवर, मुँह, तांत्रिका और मस्तिष्क आदि स्वस्थ रूप से कार्य कर पाते हैं। 

विटामिन बी का हमारे शरीर में पर्याप्त मात्रा में होना बहुत जरूरी होता है खासकर बुजुर्गों के लिए। क्योंकि ज्यादा उम्र हो जाने के बाद यह पोषक तत्व ठीक से अवशोषित नहीं हो पाते हैं। विटामिन बी की आवश्यकता हमारे शरीर में इसलिए भी होती है ताकि हमारी कोशिकाएं स्वस्थ बनी रहे और हमारा शरीर ऊर्जा युक्त रहे। डिप्रेशन बताना को भी खत्म करने में विटामिन बी काफी मददगार होता है। 

विटामिन बी कंपलेक्स कई प्रकार के होते हैं। 

  • विटामिन बी 1 
  • विटामिन बी 2 
  • विटामिन बी 3
  • विटामिन बी 5
  • विटामिन बी 6
  • विटामिन बी 7 
  • विटामिन बी 9 
  • विटामिन बी 12

ऊपर दिए गए लिस्ट में सभी विटामिन बी की अलग-अलग किस्में है। सभी प्रकार के विटामिन केवल एक कार्य नहीं करते हैं या हम कह सकते हैं कि अलग-अलग विटामिन बी कंपलेक्स अलग-अलग काम करते हैं। जिस तरह यह सभी विटामिन बी कंपलेक्स एक सामान्य कार्य नहीं करते हैं उसी तरह यह एक तरह के खाद्य पदार्थों में भी नहीं मिलते हैं। उदाहरण के लिए विटामिन बी 7 और बी 9 फलों और सब्जियों में पाया जाता है जबकि विटामिन बी 12 मुख्यतः मीट और डेयरी उत्पादों में मिलता है। 

क्या हैं विटामिन बी की कमी के लक्षण? : विटामिन बी की कमी से होने वाले रोग

जिस प्रकार विभिन्न विटामिन बी कांपलेक्स के स्रोत अलग है और इनकी कमी से होने वाले रोग अलग हैं, ठीक उसी प्रकार अलग अलग विटामिन बी काम्प्लेक्स की कमी को पहचानने वाले लक्षण भी अलग-अलग हैं । यहां पर हमने आपको विभिन्न प्रकार के विटामिन बी कंपलेक्स को अलग अलग करके उनकी कमी को पहचानने वाले लक्षणों के बारे में बताया है। 

विटामिन बी 1 : विटामिन बी की कमी से होने वाले रोग

विटामिन बी 1 की कमी में दिखने वाले संकेत व लक्षण कुछ इस प्रकार हैं। 

चिड़चिड़ापन महसूस होता है, मांसपेशियों में कमजोरी, उलझन महसूस होना, जल्दी जल्दी वजन घटना, हाथों पैरों में झनझनाहट का एहसास होना, याददाश्त का कमजोर होना, भूख कम लगना या फिर पाचन संबंधी समस्याएं आना जैसे कि दस्त। यदि कोई इन सभी समस्याओं से ग्रसित है तो अनुमान लगाया जा सकता है कि उस व्यक्ति में विटामिन b1 की कमी है। 

विटामिन बी 2 : विटामिन बी की कमी से होने वाले रोग

जीभ में सूजन आ जाना, आंखों का जल्दी थक जाना, गले में दर्द या फिर सूजन का एहसास होना, धुंधला दिखना, आंखों में खुजली होना, कमजोरी और एनीमिया आदि। यह सभी विटामिन बी 2 की कमी के लक्षण हैं। 

विटामिन बी 3

विटामिन बी 3 के लक्षण निम्न हैं। यदि किसी व्यक्ति को देखने में तकलीफ होती है, प्रकाश के प्रति संवेदनशीलता होती है, कमजोरी महसूस होती है, भूख कम लगती है, बदहजमी होती है, त्वचा में सूजन जलन व लालिमा या फिर त्वचा में संवेदनशीलता, चिकत्ते पड़ना, डिप्रेशन याददाश्त में कमी आ जाना और जीभ में लालिमा व दर्द होना आदि शिकायतें होती हैं तो उस व्यक्ति में विटामिन B3 की कमी हो सकती है। 

विटामिन बी 5

अनिद्रा की समस्या होना, उल्टी आना, पेट में दर्द महसूस होना, पैरों में जलन होना, श्वसन तंत्र में संक्रमण की आशंका लगना, थकावट महसूस करना एवं चिड़चिड़ापन महसूस करना आदि विटामिन B5 की कमी के लक्षण हो सकते हैं। 

विटामिन बी 6

उलझा हुआ सा महसूस होना, मांसपेशियों में दर्द महसूस होना, एनीमिया या मूड में बार-बार बदलाव, चिड़चिड़ापन, चिंता व डिप्रेशन या फिर ऊर्जा में कमी महसूस करना आदि विटामिन बी 6 की कमी के लक्षण होते हैं। 

विटामिन बी 7 

बालों का कमजोर पड़ना या फिर बालों का झड़ना, पाचन प्रणाली से जुड़ी समस्याएं होना, मांसपेशियों में ऐंठन महसूस होना, हाथों पैरों में झुनझुनी का एहसास होना, ऊर्जा में कमी या फिर काफी थकान महसूस होना और तंत्रिका में क्षति महसूस होना आदि विटामिन बी 7 की कमी के लक्षण होते हैं। 

विटामिन बी 9 (फॉलिक एसिड)

थकान महसूस होना, कम भूख लगना, चिड़चिड़ापन महसूस होना और एनीमिया आदि। ये सभी लक्षण विटामिन बी 9 यानी फॉलिक एसिड की कमी की ओर संकेत करते हैं। 

विटामिन बी 12

याददाश्त में कमी आ जाना, देखने में तकलीफ होना, जीभ में अनावश्यक चिकनापन महसूस होना, घबराहट होना, कब्ज, दस्त, सांस फूलना, कमजोरी और थकान महसूस होना विटामिन बी 12 की कमी के लक्षण हैं। 

विटामिन बी की कमी से होने वाले रोग

जैसा कि हम पहले ही जानते हैं कि अलग-अलग प्रकार के विटामिन की कमी से अलग-अलग प्रकार के रोग होते हैं। तो उसी को आगे पूरा करते हुए, आइए जानते हैं कि वह कौन-कौन से रोग है जो कि विटामिन बी की कमी से हमें हो सकते हैं। 

विटामिन बी 1 : विटामिन बी की कमी से होने वाले रोग

विटामिन बी 1 की कमी से बेरी बेरी रोग हो जाता है। इस रोग में निम्न समस्याएं होने लगती हैं। 

जब भी किसी को बेरी बेरी रोग होता है। तो उसे उलझन महसूस होती है, भ्रम होने लगता है, हृदय संबंधी समस्याएं होने लगती हैं और याददाश्त में कमी आने लगती है। 

विटामिन बी 2 : विटामिन बी की कमी से होने वाले रोग

यदि किसी को लंबे समय से विटामिन B2 की कमी है तो यह समस्याएं होने लगती हैं। मोतियाबिंद, बाल झड़ना, त्वचा का रूखा हो जाना, अनिद्रा, ग्लूकोमा, माइग्रेन और एनीमिया इत्यादि। 

विटामिन बी 3

विटामिन B3 की कमी में प्रतिरक्षा प्रणाली कमजोर पड़ जाती है, डिप्रेशन की समस्याएं बढ़ने लगती हैं, मुंहासे हो जाते हैं और थकान महसूस होती है। 

विटामिन बी 5

विटामिन B5 की कमी से इम्यूनिटी यानी शरीर की प्रतिरोधक क्षमता कम हो जाती है, नींद कम आती है, डिप्रेशन बढ़ जाता है, सांस संबंधी समस्याएं भी हो जाती हैं और पेट में ऐठन का एहसास होने लगता है। 

विटामिन बी 7 

इसमें व्यक्ति की सुनने की क्षमता कम हो जाती है। साथ ही साथ डिप्रेशन, अनिद्रा होना, हाथों व पैरों का सुन्न हो जाना और त्वचा संबंधी रोग और प्रतिरक्षा प्रणाली काम ठीक से नहीं करती है। 

विटामिन बी 9 

इसकी कमी से व्यक्ति में मुख्यतः हार्ट अटैक व स्ट्रोक और कैंसर जैसी समस्या हो जाती हैं। इसकी कमी होने से इंसान पर असमय बुढ़ापा झलकने लगता है व मानसिक विकार आ जाते हैं। 

विटामिन बी 12

विटामिन B12 की कमी होने पर बांझपन, पेट का कैंसर होना और शिशु का दोष के साथ पैदा होना एवं न्यूरोलॉजिकल बदलाव होता है। 

तो अब तक हम जान चुके हैं कि कौन से विटामिन की कमी से कौन से रोग होते हैं एवं उन रोगों से पहले क्या क्या लक्षण होते हैं जिनसे हम पहचान सकते हैं कि शरीर में कौन से विटामिन की कमी हो रही है। चलिए अब जान लेते हैं की इन रोगों के उपचार हेतु हमें कौन से खाद्य पदार्थों का सेवन करना चाहिए इनमें अलग-अलग विटामिन की मात्रा होती है। 

विटामिन बी की कमी का उपचार एवं वे खाद्द पदार्थ जिनमें विटामिन बी पाया जाता है : विटामिन बी की कमी से होने वाले रोग

यहां हम आपको उन पदार्थों के बारे में बताएंगे जिनका सेवन करके आप अपने अंदर की विटामिन बी की कमी को दूर कर सकते हैं या फिर अपने शरीर को विटामिन बी की कमी होने से बचा सकते हैं। हमारे पास भोजन और खाने पीने की चीजों के रूप में कई ऐसे विकल्प हैं जो कि हमारे शरीर में विटामिन बी की कमी होने से हमें बचा सकते हैं। 

तो आइए जानते हैं उन खाद्य पदार्थों के बारे में जिनमें विटामिन बी की पर्याप्त मात्रा पाई जाती है। 

विटामिन बी 1 :

ओट्स (जई), दूध, संतरा, अंडा, फली, मटर, पालक, नट्स एवं बीज। इन सभी खाद्य पदार्थों में विटामिन बी 1 पाया जाता है। 

विटामिन बी 2 :

हरिवा पत्तेदार सब्जियां जैसे पालक, दूध व दूध से जुड़े हुए उत्पाद जैसे दही व चीज, चिकन, अंडा और मछली आदि। 

विटामिन बी 3 :

मूंगफली, अंडा, ब्रोकली, मटर, पालक, ओट्स (जई), मशरूम, दूध व उससे जुड़े हुए अन्य उत्पाद। 

विटामिन बी 5 :

अंडा, टमाटर, आलू और चिकन आदि। 

विटामिन बी 6

विटामिन बी 6 की कमी से निपटने के लिए आप अंडे, मछली, चिकन, ओटमील और ब्रेड आदि का खान-पान अपने भोजन में रखें। 

विटामिन बी 7 

चने, ब्रोकोली, मटर और पालक आदि। 

विटामिन बी 9 :

विटामिन B9 की अच्छी मात्रा हरी पत्तेदार सब्जियों जैसे पालक और ब्रोकोली में पाई जाती है। इसके अलावा आप टमाटर का रस, बींस, फली, चिकन, मशरूम, ओट्स, अंडे, खट्टे फल, मटर और अन्य फल जैसे केला और खरबूजे का सेवन भी कर सकते हैं। 

विटामिन बी 12

विटामिन B12 की बढ़िया मात्रा दूध भाई से जुड़े हुए उत्पादों में पाई जाती है। इसके अलावा आप अंडे व चिकन को अपने भोजन में शामिल करके इसकी कमी से निजात पा सकते हैं। 

डॉक्टर विक्रांत गौर

डॉक्टर विक्रांत गौर

(B.A.M.S.) रजिस्ट्रेशन न  - DBCP / A / 8062 पूर्व वरिष्ठ सलाहकार  जीवा आयुर्वेद दिल्ली ,  फरीदाबाद मेडिकल सेंटर ,पारख हॉस्पिटल फरीदाबाद में 5 साल का अनुभव  पाइल्स, हेयर फॉल, स्किन प्रॉब्लम, लिकोरिया रोगों  में एक्सपर्ट

Leave a comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.