कब्ज की समस्या होने का मतलब है | की मलत्याग में अधिक कठनाई का होना या फिर बहुत समय के साथ साथ सामान्य से कम माल का होना | पाचन तंत्र खराब होने की वजह से हमारे शरीर को कब्ज की समस्या का सामना करना पड़ता है | इसके वजह से व्यक्ति द्वारा खाया हुआ भोजन सही रूप से पाच नही पाता है | जिसके कारण कब्ज की समस्या शुरू होने लगती है | जिसमे हमारी आँतों में परिवर्तन आ जाता है |

जिसकी वजह से मॉल करने में दिक्कत आने लगती है | या फिर मल निष्कासन की मात्रा कम हो जाती है | मल निष्कासन के समय अधिक बल का प्रयोग करना पड़ता है | हर व्यक्ति में मल त्याग की गति अलग-अलग होती है | लेकिन अगर हफ्ते में तीन दिन तक शौच ना जाना बहुत लंबा समय हो जाता है | यह समस्या केवल कब्ज को जन्म देती है | अब आइये जानते है कब्ज के मुख्य कारणों के बारे में |

जाने क्यों होती है कब्ज की समस्या ?

आहार में फाइबर की कमी है कब्ज की मुख्य वजह

जो लोग अपने आहार में फाइबर की मात्रा का सेवन बहुत कम करते है | उन लोगो को हमेशा इस समस्या से जूझना पड़ता है | क्यूकि आहार में फाइबर की मत्र कम होने से हमारी आंतो में परिवर्तन होने लगता है जिसकी वजह से कब्ज की समस्या जन्म लेने लगती है |

अधिक आराम व बिस्तर पर रहने से होती है

अगर कोई व्यक्ति अधिक समय केवल अपने बिस्तर पर ही बिताता है | तो इसकी वजह से हमारे पाचन तंत्र में कमजोरी आने लगती है | जिससे हमारे द्वारा किया गया भोजन सही रूप से पाच नही पाता है | ओर हमारे शरीर को कब्ज की समस्या से पीड़ित होना पड़ता है | इस प्रकार की समस्या अधिकतर युवाओ में देखने को मिलती है |

अधिक दवा का सेवन भी बनता है कारण

यदि आप नियमित किसी ना किसी दवा का सेवन करते है | तो इसकी वजह से आपके पाचन तंत्र पर असर पड़ता है | यदि आप किसी भोजन का सेवन करते है | वो सही समय पर पच नही पाता है | जिससे हमारे शरीर को कब्ज जैसी घातक समस्या का सामना करना पड़ता है | कभी भी इन दवा का सेवन ना करे  जैसे – ऑक्सीकोडोन, हाइड्रोमोरफोन, एमीड्राप्टीलाइन, इपिपीरामिन, फेनोटोइन, कार्बामाज़िपिन व निफाइडिपिन जैसी दवा का सेवन करने हमारे शरीर को कब्ज की समस्या होने लगती है |

समय पर शौच ना जाना भी है

यदि आप नियमित शौच नही जाते है | या फिर समय पर शौच ना जाने की वजह से भी हमारे शरीर को इस प्रकार की समस्या का सामना करना पड़ता है | आपको जैसे ही मल का वेग आये वैसे ही आपको शौच के लिए जाना चाहिये | क्यूकि अगर हम सही समय पर शौच नही जाते है | तो इसकी वजह से हमारा मल सूखने लगता है | जिसके बाद आपको मल करने में दिक्कत महसूस हो सकती है |

कम पानी पीने से भी होती है

यदि आप अपनी दिनचर्या में कम पानी का सेवन करते है | तो इसकी वजह से भी आपके पाचन तंत्र पर असर पड़ता है | कम पानी की वजह से हमारे शरीर का संतुलन बिगड़ जाता है | व डिहाइड्रेट जैसी समस्या आने लगती है | इसीलिए हमें रोजाना 5 लीटर तक पानी का सेवन करते रहना चाहिये |

  • अधिक डेयरी उत्पादों के सेवन से भी कब्ज की समस्या होने लगती है |
  • प्रेगनेंसी की वजह से भी महिला को कब्ज की समस्या हो सकती है |
  • बढ़ती उम्र की वजह से भी होती है कब्ज की समस्या |
  • दिनचर्या में बदलाव भी लाता है | कब्ज की समस्या |
  • अधिक लैक्सेटिव का सेवन करने से भी आती है कब्ज की समस्या |
  • अधिक समय तक बीमारियों से ग्रस्त रहने पर भी हमारे शरीर को हो सकती है कब्ज की समस्या |

अब आइये जानते है इसके लक्षण के बारे में

  • मलत्याग में अधिक बल का लगाना |
  • मल का सख्त हो जाना |
  • प्रतिदिन मल के लिए ना जाना |
  • जीभ का सफ़ेद व मटमैला हो जाना |
  • मुंह का स्वाद भी खराब होना |
  • मुंह से बदबू का आना |
  • भूख ना लगाना |
  • बार बार उलटी की समस्या का होना |
  • पेट में सूजन का आना |
  • पेट में दर्द का होना |
  • मलत्याग में मुश्किल होना |

अब आइये जानते है | कब्ज होने पर किस प्रकार करे घर पर ही आसन घरेलु उपचार

घरेलु उपचार

नीबू हमारी कई समस्या को ठीक करने के लिए फायदेमंद होता है | क्यूकि नीबू में पाया जाने वाला विटामिन सी, विटामिन बी 6, विटामिन ए, विटामिन ई, फोलेट, नियासिन थाइमिन, राइबोफ़्लिविन, पैंटोथेनिक एसिड, तांबे, कैल्शियम, आयरन, मैग्नीशियम, पोटेशियम, जस्ता, फास्फोरस और प्रोटीन जैसे कई पौष्टिक तत्वों की वजह से हमारे शरीर की कई परेशानी को जड़ से खत्म करने में मदद दिलाता है |

आपको इसका सेवन कुछ इस प्रकार करना चाहिये | सबसे पहले नीबू के रस को एक बर्तन में निकाल ले फिर पानी को थोडा गर्म कर ले फिर उसमे नीबू के रस को मिलाये व इसके साथ एक चुटकी सेंधा नमक मिलाये | और खाली पेट इसका सेवन करे | तोड़ी ही देर में आपकी कब्ज की समस्या जड़ से खत्म हो जाएगी |

सौंफ के सेवन से करे

सौंफ भी हमारी कई समस्या को ठीक करने में हमारी बहुत मदद करती है | इसमें पाए जाने वाले एंटी-स्पास्मोडिक, एंटी-इंफ्लेमेटरी, रोगाणुरोधी, कफ निस्सारक, मूत्रवर्धक, डिप्रैरेटिव, एंटी-कार्सिनोजेनिक और एंटी-ऑक्सिडेंट के साथ साथ विटामिन सी, पोटेशियम, मैंगनीज, आयरन, फोलेट और फाइबर जैसे तत्व हमारे पाचन तंत्र को मजबूत बनाते है |

आपको इसका सेवन कुछ इस प्रकार करना चाहिये | सबसे पहले आप एक कप सौंफ के बीज लें और सुखाकर उन्हें भून लें | फिर उन्हें पीसें और मिश्रण को छान लें | फिर इस पाउडर को प्रतिदिन गर्म पानी के साथ इसका सेवन करे | इसके सेवन के बाद आपकी पाचन तंत्र की मांसपेशियों की गतिविधि को उत्तेजित करने में मदद मिलती है | जिससे हमारी कब्ज की समस्या जल्दी ही समाप्त हो जाती है |

अंजीर दिलाता है इस समस्या से मुक्ति

अंजीर कब्ज की समस्या के लिए काफी फायदेमंद होता है | क्यूकि इसमें फाइबर उच्य मात्रा में पाया जाता है | यदि आप लम्बे समय से कब्ज की समस्या से ग्रस्त है | तो आपको अंजीर का सेवन करना चाहिये | जिससे आपको अपनी इस समस्या से मुक्ति मिल सके | आपको इसका सेवन कुछ इस प्रकार करना चाहिये | सबसे पहले दो बादाम और सूखे अंजीर को ले फिर इसको कुछ सम्स्य के लिए भिगो दे | दोनों के फूल जाने के बाद बादाम को अंजीर के साथ पीस ले फिर इसको शहद के साथ सेवन करेने से हमारी कब्ज की समस्या जड़ से खत्म हो जाती है |

शहद

शहद भी हमारे पाचन के लिए काफी फयेदेमद माना जाता है | क्यूकि इसमें पाए जाने वाले कैल्शियम, फॉस्फेट, सोडियम, क्लोरीन, पोटेशियम, मैग्नीशियम व एंटीसेप्टिक एंटीबायोटिक के गुण हमारे पाचन को मजबूत बनाने में बहुत मदद करती है | कब्ज की समस्या में शहद का सेवन इस प्रकार करे | आपको रोजाना दिन में खाली पेट शहद का सेवन करने से हमारी कब्ज की समस्या कुछ ही समय में खत्म हो जाती है |

पालक का सेवन

पालक हमारे शरीर के साथ साथ हमारे पाचन तंत्र को मजबूत बनाने के लिए बहुत फायेदेमंद होती है | क्यूकि इसमें पाए जाने वाले तत्व कैल्शियम, मैग्नीशियम, मैंगनीज, फास्फोरस, जस्ता, सेलेनियम, तांबे, फोलेट, प्रोटीन और फाइबर हमारे पाचन तंत्र को मजबूत बनाते है | कब्ज जैसी समस्या के लिए आपको इसका सेवन कच्चा या पका कर कर सकते है | आप चाहे तो इसके रस का सेवन भी कर सकते है |

और पढ़े – जुकाम खांसी का सफल इलाज – Cold And Cough Treatment In Hindi

मानवेन्द्र सिंह

मानवेंद्र सिंह सॉफ्ट प्रमोशन टेक्नोलॉजी प्राइवेट लिमिटेड में फिटनेस और हेल्थ ब्लॉगर हैं। उन्होंने 2006 में BHM स्नातक की डिग्री ली है। उन्हें स्वास्थ्य एवं विज्ञान अनुसंधान के क्षेत्र में लेखन का आनंद मिलता है।

Leave a comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.