हैजा एक खरनाक बीमारी है | जो हमारे बीच संक्रमक के द्वारा फैलती है | ये बीमारी सबसे पहले पानी के द्वारा हमारे शरीर में प्रवेश करती है | बहुत तेजी से हमारे शरीर में अपना असर दिखने लगती है | ये बीमारी जीवाणु के द्वारा होती है | और सूर्य की रोशनी में ये जीवाणु बहुत तेजी से मनुष्य के शरीर में प्रवेश करते है | ये जीवाणु हमारे शरीर में किसी पीड़ित व्यक्ति के मल, मूत्र और उल्टी के जरिये हमारे शरीर में प्रवेश कर जाते है | और हमको भी अपनी चपेट में ले लेते है | इस बीमारी के फैलने का दूसरा कारण मक्खियाँ होती है |

अगर ये मक्खियाँ हमारे खाने की किसी वस्तु पर बैठ जाये तो उस प्रदार्थ को संक्रमित कर देती है | अगर हम उस चीज का सेवन कर ले तो हम भी इस बीमारी से ग्रस्त हो जाते है | लोगो के बीच में हैजा सबसे अधिक मक्खियों के द्वारा ही फैलता है | इस बीमारी की शुरुआत बरसात के समय में हमारे आसपास पानी व गंदगी जमा हो जाने के कारण होती है | अगर इस बीमारी का सही समय पर इलाज ना कराया जाये तो इस बीमारी से मरीज की जान भी चली जाती है | तो आइये जानते है | की अगर हम इस बीमारी से ग्रस्त हो जाये तो किस प्रकार अपने शरीर को स्वस्थ बनाये |

हैजा फैलने के मुख्य कारण

1- दूषित भोजन व जल का सेवन करने से हमारे शरीर में वाइब्रियो कॉलेरी नामक जीवाणु के कारण होता है |
2- इस बीमारी की वजह मक्खियाँ होती है | जो रोगी के मलमूत्र में बैठकर इसके जीवाणु को अपने पेरों, पंखों तथा अन्य अंगों द्वारा भी होता है |
3- बाज़ार की वस्तुओ का सेवन करने के ये रोग कारण फैलता है |
4- शरीर में जीवाणु के प्रवेश करने के तीन दिन बाद ये अपना असर दिखने लगता है |

हैजा से बचाव के सरल उपाय

  • पानी को उबालकर पीये

अगर आपके आसपास हैजा जैसी बीमारी फ़ैल रही है, तो आपको अपने सेहत का अधिक ख्याल रखना चाहिये | सबसे पहले आपको पानी को उबालकर ही पीना चाहिये | जिससे आपके पानी में मौजूदसारे कीटाणु खत्म हो जायेंगे और आपको हैजा जैसी बीमारी खतरा भी नही होगा |अगर आप चाहे तो अपने पानी में क्लोरीन या आयोडीन मिलाकर इसका सेवन करना | इस उपाय को करने से आपको हैजा होने का खतरा और भी कम हो जायेगा | लेकिन आपको इस बीमारी के समय कभी भी बर्फ के पानी का इस्तेमाल नही करना चाहिये |

  • ताजे भोजन का ही सेवन करे

अगर आप बाहर की बनी हुई चीजो का सेवन कर रहे है | तो आपको हैजा जैसी बीमारी होने की संभावना बनी रहती है | इसीलिये हमको हमेशा ताजा घर का बना हुआ भोजन ही करना चाहिये | अगर आप किसी भी सब्जी को बनाने जा रहे है | तो सबसे पहले आपको उस सब्जी को अच्छे से धोकर व छीलकर ही उस सब्जी का सेवन करना चाहिये | ऐसा करने  से आपको ये बीमारी होने का खतरा कम रहेगा | और आप इस उपाय से अपने शरीर को स्वस्थ रख सकते है |

  • चीनी व नामक मिलाकर लगातार सेवन करे

अगर आपके शरीर में हैजा के जीवाणु प्रवेश कर गए है | और आपको उल्टी दस्त की परेशानी का सामना करना पड़ रहा है | तो आपको इस समय में साफ़ पानी में नामक व चीनी घोलकर इसका सेवन करते रहना चाहिये | जिससे आपके शरीर में पानी की कमी नही होगी, और कुछ ही समय में आपके शरीर से ये बीमारी की समस्या भी जल्दी ही दूर हो जाएगी |

  • हरी साग सब्ब्जियो का सेवन करे

आपको अगरइस बीमारी की समस्या हो रही है | तो आपको अपनी इस बीमारी को जल्दी ठीक करने के लिये हरी सब्जिओ का लगातार सेवन करते रहना चाहिये | जिससे आपके शरीर में रोग प्रतिरोधक की मात्रा में इजाफा होगा | जो आपके शरीर को इस बीमारी से लड़ने व दूर करने में आपकी मदद करेगी | लेकिन ध्यान रहे की जब भी आप इन सब्जिओ का सेवन करे, तो सबसे पहले इन सब्जिओ को अच्छी तरह धुलकर व छीलकर ही इनका सेवन करे | जिससे आपकी हैजा की समस्या में कमी आयेगी |

  • जूस का सेवन करे

इस बीमारी के हो जाने पर आपको अधिक मात्रा में जूस का सेवन करना चाहिये | हैजा हो जाने पर हमको सेब का जूस,संतरे का जूस,नीबू का जूस,अनार का जूस,आदि का अधिक मात्रा में सेवन करना चाहिये | जिससे हमारे शरीर को अच्छी मात्रा में प्रोटीन व मिनिरल खनिज जैसे तत्व मिलेगे | जो आपकी हैजा जैसी बीमारी से लड़ने में आपकी बहुत मदद करेंगे |

हैजा में बरते सावधानियाँ

  • गंदगी से दूरी बनाये

अगर आपके आसपास गंदगी जमा हो रही है | तो आपको अपनी सेहत का खास ख्याल रखना पड़ेगा | गंदगी से ही आपके शरीर में ही अनेको प्रकार की बीमारियाँ जन्म लेती है | हैजा भी गंदगी से होने वाली एक बीमारी होती है | हमारे शरीर में बहुत तेजी से फैलती है | इसकी रोकथाम के लिये हमको अपने आसपास गंदगी को खत्म करके अगर आपके आसपास कही जल भरा हुआ है | उसमे मिट्टी का तेल व ब्लीचिंग पाउडर डालकर इसको संक्रमण मुक्त कर दे |

  • पीड़ित व्यक्ति से दूरी बनाये

अगर आपके आसपास कोई हैजा से पीड़ित है, तो आपको उस व्यक्ति से समुचित दूरी बनाकर रखनी चाहिये | जिससे आप इस बीमारी की चपेट में नही आयेंगे | अगर कोई व्यक्ति इस रोग से पहले ग्रस्त हो चूका है | उसको अपनी सेहत का ख्याल रखने के लिये उसके शरीर से जुडी सभी वस्तुओं को संक्रमण मुक्त कर देना चाहिये | अगर आपके आस-पास के नालों अथवा जल युक्त गन्दे स्थानों को ब्लीचिंग पाउडर डालकर मुक्त कर देना चाहिये | जिससे आपको दोबारा इस बीमारी से खतरा नही होगा |

  • सड़े-गले खाद्य पदार्थों ना खाये

अगर आपके आसपास इस बीमारी का खतरा फ़ैल रहा है | तो आपको बाहर की चीजो का सेवन बिल्कुल भी नही करना चाहिये, और ना ही सड़े-गले और बासी खाद्य पदार्थों का सेवन भी बिल्कुल नही करना चाहिये | क्योंकि इस समय इन पदार्थों को मक्खियों द्वारा संक्रमित होने का अधिक खतरा रहता है | सड़े-गले खाद्य पदार्थों का सेवन कर लेने से हमको इस बीमारी के साथ साथ और भी कई अन्य बीमारी होने का भी खतरा बना रहता है | इसीलिये आपको सड़े-गले फलो व बासी भोजन नही करना चाहिये |

अगर आपके परिवार में कोई इस समस्या से ग्रस्त है | तो आपको दिए हुये उपचारों का विशेष पालन करना चाहिये | जिससे आपको इस समस्या को जड़ से खत्म करने में मदद मिलेगी |

और पढ़े -(हैजा का घरेलु उपचार -Treatment Of Cholera)

डॉक्टर विक्रांत गौर

(B.A.M.S.) रजिस्ट्रेशन न  - DBCP / A / 8062 पूर्व वरिष्ठ सलाहकार  जीवा आयुर्वेद दिल्ली ,  फरीदाबाद मेडिकल सेंटर ,पारख हॉस्पिटल फरीदाबाद में 5 साल का अनुभव  पाइल्स, हेयर फॉल, स्किन प्रॉब्लम, लिकोरिया रोगों  में एक्सपर्ट

Leave a comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.