Bones cancer

यह कैंसर हमारी बोन मैरो की रक्त बनाने वाली कोशिकाओं में होता है | जो बाद धीरे धीरे हमारी हड्डियों में फ़ैलने लगता है | इन सेल्स को हम माइक्रोस्कोप के द्वारा भी देख सकते है | और इसकी पहचान कर सकते है | हड्डियों में कैंसर तीन प्रकार का होता है |

  • ऑस्टियो सार्कोमा
  • कॉन्ड्रो सार्कोमा
  • इविंग सार्कोमा

अगर आपको इस कैंसर के शरुआती लक्षण के बारे में पता हो तो आप इसका उपचार समय रहते करवा सकते है | इस कैंसर के कारण व लक्षण किस प्रकार होते है |

हड्डियों में कैंसर होने के मुख्य कारण :

अधिक धुम्रपान करने से

अत्यधिक धुम्रपान को भी इस कैंसर की एक वजह माना गया है | जो व्यक्ति अधिक धुम्रपान का सेवन करते है , उनके शरीर में अधिक मात्रा में निकोटिन पहुच जाता है | जिसकी वजह से हमारे अस्थि मज्जा को बहुत नुकसान पहुचता है | साथ ही साथ धुम्रपान के सेवन से हमारे शरीर के साथ साथ हमारी हड्डियां भी कमजोर होने लगती है | जिसकी वजह से हमारे शरीर में हड्डियों का कैंसर की शुरुआत होने लगती है | वैसे तो अभी तक इस कैंसर की कोई मुख्य वजह का पता नही चल पाया है |

असंतुलित खानपान का सेवन करने से

बाज़ार में बिकने वाले जंक फ़ूड और फ़ास्ट फ़ूड व तली-भुनी चीजो के सेवन से हमारे शरीर में कार्बोहाइड्रेट व वसा और शर्करा की मात्रा अधिक होने लगती है | जिसकी वजह से हमारा शरीर मोटा तो हो जाता है| लेकिन इसके नियमित सेवन से हमारी हड्डियाँ कमजोर होने लगती है |

और हमारे शरीर में रोग प्रतिरोधक की क्षमता भी कम होने लगती है | जिसके दिन प्रतिदिन कम होने से हमारी हड्डियों में हड्डियों का कैंसर की शिकायत होने लगती है | गलत खानपान भी इस कैंसर की एक वजह मानी जा सकती है |

अधिक उम्र की वजह से

अगर आपकी उम्र 45 वर्ष से अधिक हो चुकी है तो आपको भी इस बीमारी का खतरा हो सकता है | क्योंकि इस उम्र में मनुष्य की हड्डियाँ कमजोर होने लगती है | जिसकी वजह से हमारे शरीर में दर्द की समस्या के साथ साथ कैंसर की समस्या भी होने लगती है |

हड्डियों में कैंसर के शुरूआती लक्षण :

हड्डियों में दर्द का होना

हड्डियों के कैंसर होने से हमारी हड्डियों में दर्द की समस्या शुरू हो जाती है | हड्डियों का कैंसर अधिकतर हमारे शरीर की लंबी हड्डियों में ही होता है , जैसे हमारी बांह व टांगों की हड्डियों में |इसलिए हमारे शरीर के इन हिस्सों में दर्द होने की अधिक संभावना होती है | अगर आपको प्रतिदिन दर्द होता है , तो आपको अपने शरीर की जाँच करवानी चाहिये |

सूजन व नरम होना

अधिकतर हड्डियों के कैंसर में ट्यूमर के आस पास वाली जगहों पर दर्द के साथ साथ सूजन भी आ जाती है | जिसकी वजह से वह हिस्सा नरम पड़ने लगता है | अगर आपको भी इसी प्रकार समस्या हो रही है| तो आज ही आपको अपने शरीर की जाँच करवानी चाहिये |

जोड़ों में समस्या

अगर आपको अपने जोड़ों में में रोजाना बहुत दर्द का सामना करना पड़ रहा है और आपको अपने जोड़ों को मोड़ने व चलने में दिक्कत हो रही है , तो ये भी कैंसर के लक्षण में ही आता है| हड्डियों में कैंसर जैसी बीमारी की शुरुआत दर्द से ही होती है | अगर आप भी इस परेशानी से जूझ रहे है तो आज ही किसी अच्छे डॉक्टर से अपना चेकअप करवाये |

पेशाब करने में दिक्कत

हड्डियों में कैंसर के कारण हमारी आंत और मूत्राशय बहुत प्रभावित होते हैं | वैसे तो पेशाब में दिक्कत कई वजह से होने लगती है, लेकिन हड्डी के कैंसर में ये समस्या 60 साल की उम्र पार करने के बाद होती है|  हमको पेशाब करने में दिक्कत शुरू होने लगती है |

जिसकी वजह से हमको हड्डियों में कैंसर होने का खतरा होता है | क्योंकि इस उम्र में हमारी हड्डियों की मजबूती कम हो कर इसमें कई प्रकार की समस्या होने लगती है | अगर आप भी इस परेशानी से जूझन पड़ रहा है तो आज ही किसी अच्छे डॉक्टर से अपना चेकअप करवाये |

थकान और बुखार

महिलाओं में हड्डियों में कैंसर बहुत जल्दी होने लगता है | महिलाओ को इस समस्या के होने पर हड्डियों में हमेशा तेज दर्द रहता है और महिलाओ को इसकी वजह से पीरियड में खून भी अधिक निकलता है | जिसकी वजह से पीड़ित  महिलायें हमेशा बीमार व कमजोर रहने लगती है | इसीलिये महिलाओं को हमेशा अपनी सेहत का सही ढंग से ख्याल रखना चाहिये | जिससे वो इस समस्या से दूर रह सके |

अगर आपके शरीर में भी इसी प्रकार के कोई लक्षण दिखाई देते है, तो आपको तुरंत ही डॉक्टर से सलाह लेकर अपना इलाज कराना चाहिये |

और पढ़े -(स्किन कैंसर व इसके बचाव – Skin Cancer Treatment In Hindi)

डॉक्टर विक्रांत गौर

डॉक्टर विक्रांत गौर

(B.A.M.S.) रजिस्ट्रेशन न  - DBCP / A / 8062 पूर्व वरिष्ठ सलाहकार  जीवा आयुर्वेद दिल्ली ,  फरीदाबाद मेडिकल सेंटर ,पारख हॉस्पिटल फरीदाबाद में 5 साल का अनुभव  पाइल्स, हेयर फॉल, स्किन प्रॉब्लम, लिकोरिया रोगों  में एक्सपर्ट

Leave a comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.