बरसात के मौसम

बरसात के मौसम में होने वाली बीमारियां दोस्तों बरसात के मौसम आते ही हमारा मन ख़ुशी से खिल उठता है |लेकिन बरसात के मौसम के आते ही हमारे आस पास कई बीमारिया भी आ जाती है|जो हमारे शरीर को काफी नुकसान पहुचाती है |इसी लिये हमको बरसात के मौसम में अपने शरीर की देखभाल अच्छी तरह से करनी चाहिये|जिससे की हम इस मौसम में बीमारी के शिकार ना हो पाये |बरसात के मौसम में हमको कई तरह बीमारी से ग्रस्त होने का खतरा बना रहता है |

जैसे की डेंगू बुखार,चिकनगुनिया,मलेरिया,डायरिया,हैजा,पीलिया,टाइफाइड,वायरल फिवर,आदि | इन बीमारियों का शिकार कोई भी हो सकता है |बरसात के मौसम में हमको अपने बच्चो का अधिक ख्याल रखना चाहिये|क्योंकिये सारी बीमारियों का सबसे अधिक खतरा बच्चो को होता है |क्योंकि बरसात के मौसम में बच्चे अपनी मनमानी के कारण बीमारियों के शिकार हो जाते है इसी लिये हमको अपने साथ कैसे अपने बच्चो का ध्यान रखना चाहिये आज इसी विषय पर बात करेंगे |की किस तरह हम बरसात के मौसम में अपना रखरखाव रखे

कैसे रहे बरसात के मौसम में बीमारियों से दूर

  • गंदगी से रहे दूर :-

बरसात के मौसम में गंदगी होना आम बात है लेकिन आपको पता होना चाहिये| की बीमारी की सुरुआत गंदगी से ही होती है |क्योंकि बरसात के पानी में कई कीटाणु होते है जो हमारे हाथो और पैरो के जरिये हमारे शरीर में चले जाते है |जिसके बाद हमको सर दर्द बुखार और भी कई परेशानियो का सामना करना पड़ता है |इसी लिये जितना हो सके उतना अपने शरीर को साफ़ रखे जिससे आप बीमारी से तो दूर रहेगे साथ अपने बच्चो को भी इन बीमारी से बचा सकेंगे|क्योंकि गंदगी में जो कीटाणु होते है |हमारे द्वारा हमारे बच्चो के अंदर भी जा सकते है |तो इसी लिये आप साफ़ होंगे तो आपके बच्चे भी बीमारियों से दूर रहेगे |

  • बरसात के पानी में ना नहाये :-

बरसात का पानी हमारे शरीर के लिये काफी नुकसान दायक होता है|क्योंकि इस पानी से नहाने से हमको ज़ुकाम व शरीर में दाने और बीमारी होना शुरु हो जाती है |इसी लिये हमको इस पानी से जितना हो सके दूर रहना चाहिये|बरसात के पानी में कई सूक्ष्मजीव होते है |जिनके हमरे शरीर में जाने के बाद हमको बीमारिया होनी शुरु हो जाती है|बरसात के पानी से हमको सबसे अधिक अपने बच्चो को दूर रखना चाहिये|क्योंकि अक्सर देखा जाता है| की बरसात के पानी में बच्चे अधिक नहाते और इसका सेवन कर लेते है |जिसकी वजह से बच्चो में कई प्रकार की बीमारी होना शुरु हो जाती है |इसी लिये बरसात के पानी से खुद को दूर रखे ही साथ साथ अपने बच्चो पर भी ध्यान जरुर दे |जिससे आप और आपका परिवार बरसात के मौसम में बीमारियों का शिकार नही होगा |

  • मच्छर को पलने ना दे :-

अक्सर देखा जाता है|की बरसात के मौसम में हमारे आस पास पानी जमा हो जाता है |जिसकी वजह से उसमे मच्छर जन्म लेने लगते है |और आपको ये भी पता होना चाहिये|की बरसात के पानी में पलने वाला मच्छर काफी खतरनाक होता है हमारी सेहत के लिये क्योंकि इसके काटने से हमको मलेरिया,डेंगू जैसी बीमारियों से हम ग्रस्त हो जाते है | तो इसी लिये अगर आपके आस पास पानी जमा है |तो उसको साफ़ कर दे या फिर आप उसको साफ़ नही कर पा रहे है |तो उस पानी में थोडा मिटटी के तेल डाल दे जिससे उसमे पलने वाले सारे मच्छर खत्म हो जायेगे|और आप भी बीमारियों से बच सकते है |

  • अच्छा खानपान रखे :-

बरसात के में हमको अधिक बीमारियाँ होने का खतरा बना रहता है |इसलिये हमको अपना खानपान सही रखना चाहिये|जिससे हमरे शरीर में रोग प्रतिरोधक की मात्रा बड़े जिससे हम जल्दी किसी बीमारी के चपेट में ना सके |हमको बरसात के मौसम में हरी सब्जियों का सेवन करना चाहिये साथ ही साथ हमको फलो का भी सेवन करना चाहिये जिससे हमारे शरीर में तरोताजागी बनी रहे |और हमारा शरीर स्वस्थ बना रहे|

  • अपनी त्वचा को साफ़ रखे :-

बरसात के पानी से हमको कई प्रकार के त्वचा वाले रोग हो सकते है |क्योंकि बरसात के पानी में कई प्रकार के कीटाणु होते है जो हमारी त्वचा को नुकसान पहुचाते है |अगर हम इस पानी के संपर्क में आ जाते है |तो हमारे शरीर में दाने खुजली आदि होने लगती है |अगर हम इसका इलाज ना करवाए तो यह हमारे त्वाचा में संक्रमक रोग को भी जन्म दे सकती है| इसी लिये जितना हो सके बरसात के मौसम में अपने शरीर को साफ़ रखे | और बरसात के मौसम में अपनी त्वचा को बचाने के लिये एंटीसेप्टिक लोसन का भी प्रयोग कर सकते है |

तो दोस्तों बरसात का मौसम आने वाला है आप भी ये उपाय करके अपने शरीर को बरसात में बीमारियों से दूर रख सकते है |

डॉक्टर विक्रांत गौर

डॉक्टर विक्रांत गौर

(B.A.M.S.) रजिस्ट्रेशन न  - DBCP / A / 8062 पूर्व वरिष्ठ सलाहकार  जीवा आयुर्वेद दिल्ली ,  फरीदाबाद मेडिकल सेंटर ,पारख हॉस्पिटल फरीदाबाद में 5 साल का अनुभव  पाइल्स, हेयर फॉल, स्किन प्रॉब्लम, लिकोरिया रोगों  में एक्सपर्ट

Leave a comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.