Posted inरोग और उपचार

मोटापा (ओबेसिटी ) कम करने के लिए बेरिएट्रिक सर्जरी सहारा कैसे ले

बेरिएट्रिक सर्जरी (Bariatric or Weight loss Surgery in Hindi ) सहारा की जरूरत तब पड़ती है जब शरीर में असामान्य रूप से अत्यधिक मात्रा में वसा (फैट) का जम जाना ही मोटापा (ओबेसिटी) है। जब कोई व्यक्ति काम के लिए खर्च हुए कैलोरी से अधिक मात्रा में कैलोरी आपने खाने में लेता है तो यह […]

Posted inFeatured Post

लहसुन के फायदे और बीमारी में उपयोग का तरीका

लहसुन के बारे में तो हर किसी ने सुनी रखा है पर क्या आपको इसके उपयोग और इसके अंदर छुपे अद्भुत गुणों के बारे में पता है हर किचन में संभवत उपयोग में लाया जाता है | जिसको अंग्रेजी भाषा में गार्लिक और साइंटिफिक भाषा में एलियम सटाइवम बोलते हैं वैसे तो लहसुन हर व्यंजन […]

Posted inFeatured Post

नोवेल कोरोना वायरस के लक्षण और बचाव जानिए

 नोवेल कोरोना वायरस ( Coronavirus information in hindi ) के बारे में आज हम कुछ जानकारी देने वाले हैं दुनिया में यह वायरस सर्वप्रथम चीन में 2019 में बुहान  हुबेई प्रदेश में पाया गया इससे पहले यह दुनिया में कहीं पर भी इस तरह के वायरस के बारे में कोई जानकारी प्राप्त नहीं हुई थी […]

Posted inदवाइयाँ

पतंजलि आई ड्राप या पतंजलि दृष्टि (आयुर्वेदिक आँखों की दवा ) के फायदे

पतंजलि आई ड्राप के फायदे जानने से पहले हम पतंजलि के बारे थोडा जानते है जैसा कि आप को पता है देश के हर कोने में मशहूर पतंजलि के प्रोडक्ट हर तरह से हमारे लिए फायदेमंद है. चाहे रसोई का सामान हो या हेल्थ प्रोडक्ट सभी प्रोडक्ट पूरी तरह से आयुर्वेदिक होते है जिनके कोई […]

Posted inरोग और उपचार

नॉन अल्कोहलिक फैटी लिवर डिजीज (NAFLD) की पूरी जानकारी

नॉन अल्कोहलिक फैटी लिवर डिजीज एक ऐसी बीमारी है जिसमें कम या बिल्कुल भी अल्कोहल का उपयोग न करने वाले आदमी या औरत के लिवर में वसा (फैट) जमा हो जाता है। यह आगे जा कर लिवर के अंतिम चरण की बीमारी का रूप ले सकता है।  Non Alcoholic Fatty Liver in hindi नॉन अल्कोहलिक […]

Posted inदवाइयाँ

पतंजलि अभयारिष्ट सिरप के फायदे और इसका सेवन का तरीका और सावधानिया

आज के समय में आयुर्वेदिक प्रोडक्ट का उपयोग भारत में ही नहीं बल्कि पूरे विश्व में हो रहा है | लगभग पतंजलि में हर बीमारी के आयुर्वेदिक प्रोडक्ट मिल जायेंगे जो 100% रिजल्ट देते है. ऐसा ही पतंजलि का एक प्रोडक्ट है अभयारिष्ट सिरप. आपने शायद इसका नाम नहीं सूना होगा लेकिन इसके फायदे आपको […]

Posted inरोग और उपचार

ग्लोमेरुलर डिजीज – GLOMERULAR DISEASE IN HINDI

ग्लोमेरुलर डिजीज को ग्लोमेरुलोनेफ्राइटिस के नाम से भी जाना जाता है। यह बीमारी किडनी में होती है इस बीमारी में किडनी में खून को साफ करने के लिए मौजूद फिल्टरनुमा छोटे – छोटे छिद्र में सूजन आ जाता है। ग्लोमेरुलर डिजीज के कारण किडनी की कार्य क्षमता बुरी तरह प्रभावित हो जाती है तथा इसके […]

Posted inमहिलाओं की समस्यायें

महिलाओं में मूत्र असंयमिता या पेशाब न रोक पाना : FEMALE URINARY INCONTINENCE IN HINDI

महिलाओं में मूत्र असंयमिता रोग या यूरिनरी इंकॉन्टिनेंस एक चिकित्सीय स्थिति है, इससे ग्रसित महिलाएं अपने  मूत्र ( पेशाब ) को रोके रखने की क्षमता खो देती हैं। इसी को हम यूरिनरी इंकॉन्टिनेंस  कहते है यह रोग सभी उम्र की महिलाओं में होने वाली एक सामान्य रोग समस्या है।  महिलाओं में मूत्र असंयमिता रोग के […]

Posted inरोग और उपचार

इआरसीपी जाँच व उसके बाद मरीज के लिए सुझाव – Instruction After ERCP Test in hindi

इआरसीपी जाँच जिसे अग्रेज़ी में Endoscopic Retrograde Cholangio-Pancreatography बोलते है इसका उपयोग लीवर और पेट के रोग का पता लगने के लिए होता है इस जाँच के द्वारा अग्न्याशय रोग या पित्त नलिकाओं के रोग का पता लगा कर उनका निदान किया जाता है इस जाँच की रिपोर्ट में उस अंग की तस्वीर से उस […]

Posted inरोग और उपचार

ट्रान्सकैथेटर एब्लेशन और एलेक्ट्रो फिजियोलॉजी स्टडी व रेडियो फ्रीक्वेंसी एब्लेशन की जानकारी

ट्रान्सकैथेटर एब्लेशन, एलेक्ट्रो फिजियोलॉजी स्टडी (ईपीएस) के साथ रेडियो फ्रीक्वेंसी एब्लेशन करने की एक प्रक्रिया है । एलेक्ट्रो फिजियोलॉजी स्टडी में यह एक जांच की एक प्रक्रिया है जिसके तहत हृदय का अंदर से ईसीजी किया जाता है। यह हृदय की गति को असामान्य करने वाले इलेक्ट्रिकल संकेतों का अध्ययन करने के लिए किया जाता […]