दिव्य प्रदरसुधा सिरप को भारत में पाई जाने वाली सबसे बेहतरीन जड़ी-बूटियों के मिश्रण से बनाई जाती है | जो कि आपकी पीरियड्स में अधिक ब्लीडिंग, हार्मोन असंतुलन, संक्रमण व ट्यूमर जैसी समस्या में आपकी बहुत मदद व इन परेशानियों से शरीर की रक्षा करती है | यह आयुर्वेदिक दवा महिलायों में होने वाली समस्या के उपचार के लिये ही बनाई गयी है |

यदि आप भी माहवारी आने पर किसी समस्या की शिकार हो जाती है | तो आपको ध्यान पूर्वक हमारे इस लेख को पढना चाहिये | क्युकी यह लेख पूरी तरह महिलायों व लड़कियों में होने वाली समस्या के लिए ही बनाया गया है | तो आइये जानते है – आयुर्वेदिक दिव्य प्रदरसुधा सिरप के बारे में विस्तार से…

दिव्य प्रदरसुधा सिरप क्या है ?

दिव्य प्रदरसुधा सिरप एक आयुर्वेदिक दवा है जो पतंजलि के द्वारा कई जडीबुटी को मिलाकर बनाई जाती है | इस दवा में अशोक, शतावर, धातकी व पिप्पली जैसी कई गुणकारी जडीबुटीयों को मिलाया जाता है | जिसके सेवन से शरीर को कई एंटीऑक्सीडेंट, एंटीमिक्राबियल, विटामिन के, विटामिन बी 1, विटामिन ई, फोलिक एसिड व खनिज तत्व प्राप्त होते है |

जो कि आपके शरीर में होने वाले हार्मोन्स असंतुलन को बेहतर करने का कार्य करते है | यदि आप भी अपने पीरियड्स के समय बहुत परेशान रहती है | तो इस दवा के द्वारा आप अपनी परेशानी को आसानी पूर्वक दूर कर सकती है | तो आइये जानते है दिव्य प्रदरसुधा सिरप को किन किन जड़ी बूटी के द्वारा बनाया जाता है |

सिरप में मिलायी जाने वाली जड़ीबूटी :

  • अशोक की छाल |
  • शतावर |
  • धातकी |
  • पिप्पली |
  • लोधरा |
  • नगकेसरा |
  • गूलर |
  • धातकी |

इन सभी गुणकारी जड़ीबूटियों को मिलाकर पतंजलि इस दवा का निर्माण करती है | इसी वजह से यह दवा बहुत तेजी से अपना असर दिखाती है | अगर बात करे इस दवा के रिवयु के बारे में तो बाज़ार में माहवारी के समय महिलाये सबसे अधिक इसी दवा को खरीदती है | क्योंकि इस दवा के द्वारा माहवारी ही नही अन्य समस्या में लाभ मिलता है | तो दोस्तों आइये जानते है इस दवा के द्वारा होने वाले लाभ के बारे में |

इसके प्रयोग से रोगों में फायदे –

सफ़ेद-पानी की समस्या में लाभकारी –

सफ़ेद-पानी यानि लिकोरिया इसको अंग्रेजी में वाइट डिस्चार्ज के नाम से जाना जाता है | यह महिलायों में होने वाला एक रोग होता है | जो अधिकतर आपको आपके पीरियड्स के बाद होने लगता है | इस परेशानी में आपके योनि के माध्यम से सफेद और चिपचिपा पदार्थ का स्त्राव होने लगता है | जो आपकी नियमित होने वाली दिनचर्या पर बहुत ही बुरा असर डालता है | यदि आप भी कुछ इसी प्रकार की समस्या से परेशान है | तो आप दिव्य प्रदरसुधा दवा के द्वारा अपनी इस परेशानी से मुक्ति पा सकती है |

संक्रमण को खत्म करती है –

संक्रमण का सबसे अधिक खतरा महिलायों को होता है | ऐसा नही है कि यह समस्या केवल महिलायों में ही पाई जाती है | संक्रमण किसी भी व्यक्ति व महिला को अपनी गिरफ्त में ले सकता है | महिलायों में संक्रमण अधिकतर गुप्तांग में पाया जाता है | जिसको बताने से कई महिलाये परहेज करती है | यदि आप भी किसी संक्रमण से ग्रस्त है |

जैसे की गुप्तांग में खुजली होना, जलन होना, सुजन आना, व दर्द के साथ रक्त निकलना तो आप पतंजलि की दिव्य प्रदरसुधा सिरप के साथ अपनी इस परेशानी को जड़ से खत्म कर सकती है | इस दवा में एंटीऑक्सीडेंट व एंटी बैक्टीरियल तत्व शरीर में मौजूदसंक्रमण को जड़ से खत्म करने का कार्य करती है |

हार्मोन असंतुलन को ठीक बनाती है –

हार्मोन असंतुलन की समस्या के कारण आपको अनियमित पीरियड्स जैसी परेशानी व अधिक रक्तस्त्राव जैसी समस्या का सामना करना करना पड़ता है | हार्मोन असंतुलन के कारण आपके हांथ, पैर व छाती पर बाल निकालने लगते है | यदि आप भी कुछ इसी प्रकार की परेशानी का सामना कर रही है | तो आपको पतंजलि की दिव्य प्रदरसुधा दवा का सेवन करना चाहिये | यह दवा आपके शरीर में हो रहे हार्मोन असंतुलन को बेहतर बनाकर आपके सामान्य पीरियड्स में मदद करती है |

ट्यूमर की परेशानी होने से रक्षा करती है –

असामान्य कोशिकाओं के विकशित होने से शरीर को ट्यूमर जैसी समस्या का सामना करना पड़ता है | आपके शरीर में अरबों कोशिकाओं होती है, जो कभी भी अपने आप विकशित होने लगती है | यह अधिकतर धूम्रपान व सूर्य की रोशनी के कारण जन्म लेता है |

यदि आपके शरीर के किसी अंग में उभार व गांठ की समस्या आ रही है | तो डॉक्टर के इलाज के साथ इस दवा का सेवन करके अपनी इस परेशानी को खत्म कर सकती है | यह दवा ट्यूमर में बनाने वाली गांठ पर ही अपना असर दिखाती है | अगर नियमित इस दवा का सेवन किया जाये तो आप इस परेशानी से मुक्त हो सकते है |

इस सिरप को सेवन करने का तरीका –

दिव्य प्रदरसुधा सिरप का सेवन आप बहुत ही आसानी से कर सकती है | इस दवा को आप पानी व बिना पानी के साथ भी अपने सेवन में प्रयोग में ला सकती है | आपको इस दवा का सेवन भोजन व नास्ते के बाद करना चाहिये |

इसके प्रयोग से शरीर पर नकारत्मक प्रभाव –

दिव्य प्रदरसुधा सिरप सिरप के सेवन से शरीर को किसी भी प्रकार का कोई नुकसान देखने को नही मिलता है | लेकिन आपको इस दवा का सेवन दिन दो बार ही करना चाहिये | अधिक सेवन से आपको दस्त व उल्टी जैसी समस्या का सामना करना पड़ सकता है | यदि आप इस लेख से जुडी व अन्य किसी समस्या को हमसे पूछना चाहते है | तो हमारे कमेन्ट बॉक्स में हमे जरुर बताये |

मानवेन्द्र सिंह

मानवेंद्र सिंह सॉफ्ट प्रमोशन टेक्नोलॉजी प्राइवेट लिमिटेड में फिटनेस और हेल्थ ब्लॉगर हैं। उन्होंने 2006 में BHM स्नातक की डिग्री ली है। उन्हें स्वास्थ्य एवं विज्ञान अनुसंधान के क्षेत्र में लेखन का आनंद मिलता है।

Leave a comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.