दिव्य मधुकल्प वटी पतंजलि द्वारा निर्मित एक आयुर्वेदिक औषधि है, जो शुगर रोगियों के लिए बहुत ही फायदेमंद साबित होती है | इस दवा को पतंजलि के द्वारा कई शुगररोधी जड़ी बूटी को मिलाकर बनाया जाता है | जैसे करेला, चिरायता, कुटकी, नीम, जामुन आदि, इसी वजह से यह शुगर रोगी को बहुत ही आराम पहुँचाने का कार्य करती है | कई डॉक्टर भी शुगर की समस्या होने पर इस दवा का सेवन करने की सलाह देते है |

दिव्य मधुकल्प वटी क्या है ?

यह दवा शुगर के साथ साथ व्यक्ति की और भी कई समस्यायों का जड़ से इलाज करने में फायदेमंद साबित होती है | यदि कोई व्यक्ति इस दवा का सेवन नियमित रूप से करे तो व्यक्ति को कभी भी शुगर, मोटापे व रक्तचाप से जुडी समस्या का सामना नही करना पड़ेगा | पतंजलि द्वारा निर्मित इस दवा को लोगों के द्वारा अच्छा रिस्पोंस दिया गया है | क्योंकि इस दवा के द्वारा कई मरीजों को मधुमेह की समस्या से छुटकारा मिला है | दोस्तों आइये जानते है, दिव्य मधुकल्प के लाभ के बारे में विस्तार से –

इस दवाई में मिलाई जाने वाली जड़ी बूटियाँ :

दिव्य मधुकल्प वटी को निर्मित करने के लिए इसमें कई गुणकारी जडी बूटियों को मिलाया जाता है | यह शरीर की कई समस्या का इलाज बहुत ही आसानी से कर देती है | दोस्तों आइये जानते है इस आयुर्वेदिक दवा में मिलाई जाने वाली औषधि के बारे में –

  • करेला
  • चिरायता
  • नीम
  • कटुकी
  • जामुन
  • मेथी
  • अश्वगंधा
  • शिलाजीत
  • अतीस

जैसी कई गुणकारी जडी बूटियों को मिलाया जाता है | इसी कारण यह हमारे शरीर में  परेशानी को जड़ से खत्म करने में लाभदायक साबित होती है | दोस्तों आइये जानते है दिव्य मधुकल्प वटी के सेवन से होने वाले स्वास्थ लाभ के बारे में विस्तार से –

इसके सेवन से होने वाले स्वास्थ लाभ :

शुगर की समस्या में लाभकारी –

शुगर की परेशानी आज के इस युग में बहुत ही आम होती जा रही है, लोगों के बीच बढता फ़ास्ट फ़ूड की लोकप्रियता व धूम्रपान इस बीमारी को अधिक प्रभावितकर रहा है | इसी बात को ध्यान में रखकर पतंजलि द्वारा करेला, चिरायता, कुटकी, नीम व जामुन जैसी जडीबुटीयों को मिलकर एक दवा बनाई गयी है दिव्य मधुकल्प वटी | यह दवा शुगर की समस्या को जड़ से मिटाने में बहुत लाभकारी साबित हुई है | इस दवा के सेवन से शरीर में जमा ग्लूकोज की मात्रा को ठीक करने के लिए इन्सुलिन का निर्माण करता है | जिससे मरीज को शुगर की परेशानी में राहत मिलती है | इस दवा के द्वारा अत्यधिक प्यास व पेशाब वृद्धि की समस्या भी ठीक हो जाती है |

पाचन तंत्र को मजबूत बनाती है –

गलत खानपान के कारण आपको पाचन से जुडी समस्या का सामना करना पड़ता है, जिसकी वजह से व्यक्ति को लीवर से जुडी समस्या का सामना भी करना पड़ता है | अगर आप भी पाचन से जुडी किसी समस्या का सामना कर रहे है, तो पतंजलि मधुकल्प वटी के द्वारा अपनी इस समस्या को जड़ से खत्म कर सकते है | इस दवा में करेला, चिरायता, मेथी व कटुकी जैसी कई गुणकारी जड़ी बूटी हमारे लीवर में जमा गंदगी को साफ़ करके लीवर को स्वस्थ बनाती है | इसके सेवन से पाचनतंत्र मजबूत हो जाता है और शरीर स्वस्थ रहता है |

रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाये –

यदि आप नियमित किसी न किसी बीमारी के शिकार होते रहते है, या फिर मौसम के बदलाव के कारण आपको परेशानी का सामना करना पड़ता है | तो आपको जरुर दिव्य मधुकल्प वटी का सेवन करना चाहिये, क्योंकि इस दवा के सेवन से शरीर को एंटीऑक्सीडेंट और एंटीडायबिटिक के गुण  भरपूर मात्रा में मिलते हैं जिससे शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता मजबूत बनती है | इससे शरीर संक्रमण व बीमारी की समस्या से जल्दी ग्रस्त नही होता है |

मोटापे को खत्म करे –

गलत खानपान के कारण व अधिक सोने की वजह से व्यक्ति मोटापे का शिकार हो जाता है | यदि रोजाना सुबह शाम दिव्य मधुकल्प वटी का सेवन किया जाये, तो शरीर में जमा वसा व चर्बी को कम करके उसको उर्जा में बदलने का कार्य करता है | दिव्य मधुकल्प वटी द्वारा अपने मोटापे की समस्या को खत्म करने के लिए इस दवा का सेवन खाली पेट व गुनगुने पानी के साथ ही करना चाहिये |

इस दवा से जुड़े कुछ अन्य स्वास्थ लाभ :

  • शारीरिक कमजोरी दूर करता है |
  • रक्त चाप को नियंत्रित बनाता है |
  • जोड़ो के दर्द में लाभकारी है |
  • आँखों की रोशनी को ठीक करता है |
  • सीने की जलन व दर्द में लाभकारी है |
  • शुक्राणु की क्षमता को बेहतर करता है |

इस दवाई के सेवन का तरीका –

दिव्य मधुकल्प वटी का सेवन हम बहुत ही आसानी से कर सकते है, शुगर व मोटापे की समस्या के लिये आपको इस दवा का सेवन गुनगुने पानी के साथ खाली पेट करना चाहिये | आपको नियमित रूप से एक या दो गोली का सेवन सुबह शाम करना चाहिये मगर ध्यान रखे की बच्चों को इस दवा का सेवन न कराये |

इस दवा के होने वाले नकारात्मक प्रभाव –

यदि इस दवा का सेवन अधिक मात्रा में किया जाये तो इसकी वजह से शरीर को कई प्रकार की समस्या का सामना करना पड़ सकता है | जैसे उल्टी, चक्कर आना, सिर दर्द, ब्लडप्रेशर का लो हो जाना व त्वचा पर लाल चकते पड़ना जैसी समस्या का सामना करना पड़ता है | गर्भवती महिला को इस दवा का सेवन गर्भ के पांच महीने के उपरांत नही करना चाहिये | अन्यथा इस दवा के कारण महिला व बच्चे को परेशानी का सामना करना पड़ सकता है |

इसका ऑनलाइन मूल्य जाने या ख़रीदे 

मानवेन्द्र सिंह

मानवेन्द्र सिंह

मानवेंद्र सिंह सॉफ्ट प्रमोशन टेक्नोलॉजी प्राइवेट लिमिटेड में फिटनेस और हेल्थ ब्लॉगर हैं। उन्होंने 2006 में BHM स्नातक की डिग्री ली है। उन्हें स्वास्थ्य एवं विज्ञान अनुसंधान के क्षेत्र में लेखन का आनंद मिलता है।

Leave a comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.