मालिश के फायदे

मालिश के आयुर्वेदिक फायदे व तरीका – Benefits of body massage in Hindi

मालिश के फायदे ( benefits of body massage in hindi ) के बारे मे हम इसी से लगा सकते है की जन्म के समय से ही हमारी मालिश हमारी मालिश शुरू हो जाती है | नवजात शिशु के बचपन से ही घर की कोई बुजुर्ग महिला आटे की लोई के साथ बच्चे की मालिश शुरु कर देती है | लोई और तेल से की जाने वाली इस मालिश से बच्चे का शरीर `स्वच्छ और मजबूत रहता है और अनावश्यक रोम / बाल दूर होते है | मालिश एक बहुत ही उपयोगी और लाभकारी तरीका है शरीर को स्वस्थ्य , मजबूत और स्वच्छ करके शरीर से कमजोरी और थकावट मिटाता है |

नीचे दिए गए लेख मे हम आपको मालिश के फायदे बतायेगे की आप कैसे मालिश की सहायता से खुद को स्वस्थ्य व निरोग बना सकते है |

मालिश को फायदेमंद बनाने के कुछ खास तरीके : important rules for body massage in hindi

  • प्रसन्न , शांत और निश्चिंत होकर , एकाग्र मन से , अंग की मासिल करे उस वक़्त सारा ध्यान आपका उसी अंग पर होना चाहिए जिससे कि आपको यह महसूस हो की उस अंग पर बल मिल रहा है |
  • जमीन पर दरी या चटाई बिछाकर ही मालिश करे और याद रखे की खड़े होकर या चलते – फिरते मालिश ना करे |
  • मालिश करने के लिए हाथ को नीचे से ऊपर की तरफ चलाये और ध्यान दे की हाथ ऐसी सावधानी से चलाये की बाल ना टूटे | हाथ को उपर से नीचे की ओर चलाने का तात्पर्य है की ह्रदय की तरफ रक्त का प्रभाव हो |
  • मालिश धीरे धीरे और हलके हाथो के साथ करे | कम से कम 20 मिनट या ज्यादा से ज्यादा 45 मिनट तक ही मालिश करे |
  • मालिश सरसों , नारियल या जैतून के तेल से करे | मालिश करने से पहले तेल को किसी काच की बोतल मे रख कर कुछ देर के लिए धूप मे रख दे इससे क्या होता है की सूर्य की किरणों से तेल मे शक्ति तत्व बढ़ जाते है |
  • ठण्ड के दिनों मे याद रहे की ठंडी जगह और गर्मी मे अधिक गर्मी व धूप से बचकर पर मालिश करे जगह बैठ कर ही मालिश करे | मालिश के समय पेट खाली होना चाहिए इसलिए मालिश करने का सबसे अच्छा समय शुबह शोच के बाद और नहाने से पहले सर्वश्रेष्ठ माना गया हैं |
  • मालिश करने के बाद शरीर को ठंडा करके गुनगुने पानी से नहा कर तोलिया से अच्छे से रगड़ कर शरीर को पोछ ले |

मालिश के प्रकार – मालिश करने के कुछ निम्न प्रकार है : Types of massage in hindi

  • तेल द्वारा मालिश
  • सूखी मालिश
  • ठंडी मालिश
  • गर्म ठंडी मालिश
  • पाउडर की मालिश
  • पावं की ओर से मालिश
  • बिजली की मालिश

मालिश के फायदे : Benefits of body massage in hindi

  • मालिश करने से त्वचा बलबान , स्वस्थ्य और निरोग रहती है |
  • मालिश करने से शरीर मे रक्त संचार अच्छे से होता है जिससे शरीर मे स्फूर्ति और शक्ति बनी रहती है |
  • शरीर के सभी अंगो को तेल से चिकनाई प्राप्त होती है , लचीलापन बना रहता है जिससे शरीर का विकास अच्छे ढंग से होता है |
  • जो लोग व्यायाम व योगा आदि नहीं कर पते है वे भी मालिश करके शरीर को स्वस्थ्य व स्फूर्तिवान रख सकते है |
  • मालिश करने से पाचन क्रिया मे सुधार होता है , पाचक अंगो को उर्जा मिलती है जिससे लिवर , आमाशय आदि अपना कार्य ठीक से करते है व मल भी ठीक से कार्य करता है |
  • मालिश करने से नींद ना आना , शारीरिक रोग , सिर दर्द , हाथ पैरो मे कंपन्न , वात रोग और जोड़ो के दर्द आदि समस्याओ से निजात मिलती है |
  • सिर मे मालिश करने से बाल काले , घने और लम्बे रहते है व ना तो समय से पहले पकते है और ना ही टूटते है |
  • मालिश करने से फेफड़ो , गुर्दों और आंतो को बल मिलता है जिससे वे शरीर के विकारो को दूर कर शरीर को स्वस्थ्य बनाये रखते है |                                                                                     

शरीर की मालिश के लिए तेल व उनके फायदे : Best body oil massage and its benefits in hindi

हम कई समय से तेल से मालिश करने के फायदे सुनते आये है | नीचे कुछ ऐसे ही तेलों के नाम व उनसे मालिश के फायदे बताये गये है आइये पढ़ते है |

नारियल का तेल : Coconut oil for body massage in hindi

नारियल के तेल को अन्य तेलों से गाढ़ा और भारी माना जाता है लेकिन इस तेल की चिकनाहट थोड़ी कम होती है | नारियल के तेल की मालिश करने से यह हमारी त्वचा को हानिकारक गुणों से बचाता है  , इसमें पाए जाने वाले विटामिन इ की वजह से त्वचा स्वस्थ्य एवं तरोताजा बनी रहती है |

अरंडी का तेल : Castor oil for body massage in hindi

यह एक आयुर्वेदिक तेल है जो बाजार मे काफी आराम से मिल जाता है | यह तेल शरीर मे दर्द एवं गंभीर पीढ़ा को दूर करने मे सहायक होता है इसलिए इस तेल का उपयोग मालिश करने के लिए किया जाता है |

जैतून का तेल : olive oil for body massage in hindi

जैतून के तेल मे मैग्नीसियम, जिंक , विटामिन E , आयरन एवं कैल्शियम जैसे कई सारे पोषक तत्व पाए जाते है जो त्वचा को स्वस्थ्य रखने मे सहायक होते है | जैतोऊँ के तेल से मालिश करने से शरीर का कठोरपन और कड़ापन दूर होता है और त्वचा मुलायम बनी रहती है |

चन्दनबला लाछादी तेल : Chandanbala lachhadi oil in hindi

शरीर को स्वस्थ्य और बलवान बनाए रखने के लिए चन्दनबला लाछादी तेल बहुत ही गुणकारी तेल है | इस तेल की मालिश करने से खासी , स्वास , त्वचा रोग , फोड़े – फुंसी , शरीर मे बढ़ी हुई गर्मी , आँखों मे जलन आदि चीजे खत्म हो जाती है और शरीर मे शीतलता प्रदान करता है |

चन्दनबला लाछादी तेल बनाने की विधि : Chandanbala oil making method in hindi

सफ़ेद चन्दन , खरेटी की जड़ , लाख , खस इन चारो को 200 – 200 ग्राम मात्रा मे लेकर 3 लिटर पानी मे डालकर उबाल ले | जब चोथाई भाग जल बचे तब तब उसको उतारकर छान ले और उसमे 200 ग्राम तिल का तेल मिला दे फिर सफ़ेद चन्दन , खस . मुलेठी , सोया , कुटकी , देवदारु, हल्दी , कूठ , मजीठ , छोटी इलायची , दालचीनी , पीला चन्दन , व सदा नमक | इन सब को समान मात्रा मे लेकर 100 ग्राम का मिश्रण बना कर काढ़े मे डाल दे | इसमें गाय का दूध 500 ग्राम दाल कर धीमे आंच पर पकाए | जब सिर्फ तेल शेष बचे उसे निकाल कर छान ले | बस तैयार है आपका चन्दन लाछादी तेल |

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.