बैद्यनाथ सप्तारिष्ट

बैद्यनाथ सप्तारिष्ट के फायदे : Baidyanath saptarishta benefits in hindi

 आज हम बात करेंगे की  सप्तारिष्ट क्या होता है और ये किस काम मे आता है? ये एक प्रकार का टॉनिक है जो आपके शरीर में विभिन्न पोषक तत्व को प्रदान करता है और आपके शरीर में नयी ऊर्जा के साथ तन्दुरुस्ती लेकर  आता है। दोस्तों, जैसे कि इसके नाम से पता चलता है, इस सप्तरिष्ट के अंदर सात रिष्टों  का मिश्रण होता है। सप्तरिष्ट के अंदर अर्जुनारिष्ट, द्राक्षारिष्ट ,अश्वगंधारिष्ट, दशमूलारिष्ट, पुनर्नवारिष्ट, सारिवाद्यारिष्ट एवं चंदनासव मिला हुआ होता है।

  सप्तारिष्ट का प्रयोग जो होता है हृदय सम्बंदित विकारों के लिए ,हृदय की सूजन के लिए, बेचैनी के लिए,पाचन सकती को मजबूत करने के लिए किया जाता है।इसका उपयोग रोगप्रतिरोधक क्षमता को भी बढ़ने के लिए किया जाता है। 

  आप अपने उत्तम स्वास्थ्य और उत्तम तंदरुस्ती के लिए इस दवा को जरूर ले सकते हैं।मै  आपको बता दूँ कि आपके शरीर के बेहतर टॉनिक के लिए आयुर्वेद से अच्छा कोई भी नहीं हो सकता  है, और अभी मार्केट में बहुत सारी आयुर्वेदिक टॉनिक उपलब्ध है मगर बैद्यनाथ से अच्छा कोई भी कम्पनी के नहीं होते हैं। 

तो चलिए हम देखते हैं थोड़े विस्तार बैधनाथ सप्तारिष्ट के फायदे के बारे मे:-

            सप्तरिष्ट एक प्रकार की आयुर्वेदिक औषधि है जिसका इस्तेमाल हमारे शरीर के सप्त धातू यानि रस, रक्त, मांस, मेद, अस्थि, मज्जा तथा शुक्र को पोषित करने के लिए किया जाता है।ये शरीर के एक अंग को नहीं बल्कि पूरे शरीर को पोषित करता है और ऊर्जा प्रदान करता है।ये तनाव को भी कम करता है।जो लोग लंबी बीमारी से उठे हुए होते हैं और वे कमजोरी महसूस करते हैं तो उनके लिए सप्तरिष्ट बहुत प्रभावशाली होता है।इससे उनको शक्ति और ताकत मिलती है।

   इसके इस्तेमाल से रक्त संचालन और पाचन सिस्टम भी संतुलित रहता है। सप्तारिष्ट कई सारे प्राकृतिक तत्वों से मिलकर बना है।और यही कारण है कि ये इतनी प्रभावशाली साबित हुई है।

चलिए देखते हैं बैधनाथ सप्तारिष्ट के मुख्य घटक क्या-क्या हैं?

जैसे की हमने आपको पहले ही बताया की ये सात रिष्टों के मिश्रण से बना हुआ है। ये सातों रिष्ट बहुत ही प्रभावशाली है। 

  1. अर्जुनारिष्ट
  2. द्राक्षारिष्ट 
  3. अश्वगंधारिष्ट
  4. दशमूलारिष्ट
  5. पुनर्नवारिष्ट
  6. सारिवाद्यरिष्ट 
  7. चंदनासव

 आइये देखते हैं क्या हैं इनके फायदे :-

अर्जुनारिष्ट:- अर्जुनारिष्ट किसी भी प्रकार के दिल के मरीजों के लिए एक प्रभावशाली टॉनिक है। अर्जुनारिष्ट का उपयोग सीने में दर्द, रक्तचाप, हार्ट फेल, मायोकार्डियल इन्फार्कशन, दिल में ब्लॉकेज, कार्डियोमायोपैथी आदि से ग्रस्त लोगों के उपचार में किया जाता है। 

द्राक्षारिष्ट :- द्राक्षारिष्ट एक तरल आयुर्वेदिक दवा जिसमे कुछ मात्रा अल्कोहल भी होता है। यह प्रमुख रूप से आपके पाचन समस्याओं के साथ-साथ आपके सांस और आंतों उपचार के लिए प्रयोग किया जाता है| यह हमारे शरीर में होने वाली जरूरी पोषक तत्वों और औषधीय गुणों को मौजूद कराता है।

अश्वगंधारिष्ट:- अश्वगंधा को आयुर्वेद का महत्वपूर्ण जड़ी-बूटी में से एक माना गया है। ये शरीर मे पोषक – तत्वों के आपूर्ति करने में तो मदद करता है साथ में ये आपके तनाव, चिंता, याददाश्त की कमी तथा कई मानसिक समस्याओं का उपचार में कर सकते हैं। 

दशमूलारिष्ट:- दशमूलारिष्ट दस औषधिक पौधों के जड़ों के मिश्रण से बना होता है। ये खास कर महिलाओं के लिए जैसे भूख बढ़ाने में मदद करना, प्रसव के बुखार को कम, पाचन रोगों की देखभाल, शारीरिक शक्ति में सुधार करना, पीठ दर्द को कम करना,  डिलीवरी के बाद थकान के लिए टॉनिक के रूप में काम करता है। 

पुनर्नवारिष्ट:- पुनर्नवारिष्ट  आयुर्वेद में सबसे प्रसिद्ध दवाओं में से एक है।ये स्प्लीन और जिगर के विकार में, एनीमिया को ठीक करने में तथा  फैटी लीवर को ठीक करने में तथा मूत्र संबंधी रोगों के सेवन में किया जाता है। 

सारिवाद्यारिष्ट :- सारिवाद्यारिष्ट  का उपयोग दाद,खाज,खुजली, एक्जिमा तथा चर्म रोगों के लिए किया जाता है। 

चन्दनासव :- ये औषधि चन्दन से बनी होती है जिस कारण उसकी सुगंध भी चन्दन की तरह होती है। ये पेशाब के साथ धातु गिरना,पतलापन, कमजोरी, यूरिक एसिड,किडनी पत्थरी जैसी बीमारियों के इलाज में प्रयुक्त किया जाता है। 

तो चलिए अब आगे बढ़ते हैं और जानते हैं इसके सेवन के बारे में।

           इस दवा का सेवन किसी भी उम्र के लोग कर सकते हैं। आप इसका सेवन 15-24 मिलीलीटर(ml) दिन में दो बार खाना खाने के बाद पानी की बराबर मात्रा के साथ ले सकते हैं।वैसे जो डोज़ मैंने आपको बताया है वो सुरक्षित है।

                ये डोज़ एक वयस्क व्यक्ति के लिए है यदि कोई बच्चा या बूढ़ा इस दवा का सेवन करना चाहता है तो उसे उनकी उम्र के अनुसार डोज़ दे सकते हैं।

सप्तारिष्ट  के सेवन में बरतने वाली सावधानियां क्या हैं ?

      दोस्तों, हम जानते हैं कि कोई भी आयुर्वेदिक दवा का कोई साइड इफ़ेक्ट नही होता है परंतु यदि आप पहले से किसी गम्भीर बीमारी से ग्रसित हैं और आप कोई अन्य दवा का डोज़ ले रहे हैं या तो यदि आपकी कोई हाल में ही कोई ऑपरेशन्स हुई है तो आप इस दवा का सेवन करने से पहले से आप अपने डॉक्टर की परामर्श जरूर ले लें।

         यदि छोटे बच्चे को इस टॉनिक की आवश्यकता पड़ती है तो आप बच्चे को दवा पिलाने से पहले एक बार चाइल्ड डॉक्टर की परामर्श जरूर ले लें।

अब बात करते हैं बैधनाथ के सप्तरिष्ट को आप कहाँ से खरीदें?

        मैं आपको बता दूं कि ये बैद्यनाथ कंपनी का बहुत ही प्रचलित दावा है इसलिए ये आपको कोई भी मेडिकल स्टोर या आयुर्वेदिक स्टोर में आसानी से मिल जाएगा। लेकिन यदि आप इस दवा को घर बैठे मांगना चाहते हैं तो आप बैधनाथ के ऑफिसियल वेबसाइट ,अमेज़न या फ्लिपकार्ट से भी आसानी से मंगा सकती हैं।

तो हम आशा करते हैं कि हमारे द्वारा बताया गया बैधनाथ सप्तारिष्ट के बारे में जानकारी अच्छा लगा हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर जरूर करें ।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.