योग से करे अस्थमा की समस्या को दूर – Asthma In Hindi

0
173
योग से करे अस्थमा की समस्या को दूर

अस्थमा कहे या हिंदी में दमा ये एक तरह की श्वसन तंत्र की बीमारी है |इस बीमारी में व्यक्ति का साँस लेना मुश्किल हो जाता है | इस बीमारी से व्यक्ति के श्वसन मार्ग में सूजन आ जाती है|

इसलिए अस्थमा की समस्या को रोकने के लिए योग एक बहुत अच्छा विकल्प होता है | योग से सिर्फ अस्थमा की समस्या को ही दूर नही किया जाता बल्कि योग से शरीर की कई बीमारियों को भी दूर किया जा सकता है |

ये बात तो सबको बहुत अच्छी तरह पता होगी कि योगा करने से स्वास्थ्य के लाभ तो होते ही है ,अपितु इससे शरीर भी फिट बना रहता है | योगा करने से आप कई बीमारियों को अपने आप से दूर रख सकते है | तो आइये जानते है कुछ ऐसे फायदेमंद योगासन जिनकी मदद से आप अस्थमा की बीमारी से मुक्ति पा सकते है |

अस्थमा की समस्या के लिए लाभकारी है योगासन

प्राणामासन से करे अस्थमा की समस्या को दूर -यह योगासन ध्यान और शांति की स्थिति बनाता है | इस योगासन से आपको प्रभावी तरीके से ध्यान करने में मदद मिलेगी | इस योगासन को करने के लिए आप पैरो के बल खड़े हो जायें आरामदायक स्थिति में फिर अपने दोनों हाथो को छाती के पास ले जायें और हाथो को जोड़ ले |

इसके बाद सुनिश्चित कर ले की आप अच्छी तरह साँस ले पा रहे है या नही | इस आसन को करने से आपको अस्थमा की समस्या से काफी जल्द आराम मिलेगा |

पादाहस्त्रासना भी है बहुत फायदेमंद है अस्थमा में 

अस्थमा की समस्या को दूर करने के लिए यह योगासन बहुत ही फायदेमंद होता है | इस आसान को करने के लिए आप अपना शरीर ऊपर से जमीन की तरफ झुकाएं और हाथो से अपने पैरो को छीने की कोशिस करे | माथे से घुटने को भी छीने का प्रयास करे | आपके पैर इस मुद्रा में सीधे रहने चाहिए ,और आपको इस योगासन को नियमित रूप से करना है |

अश्व संचालानासना –

इस आसन से अस्थमा को बहुत जल्द नियंत्रित किया जा सकता है | इस योग को करने की विधि इस प्रकार है ,सबसे पहले आप अपने बाएं घुटने को उतारने के लिए सही रूप से दायें पैर को खिचे |

इसके बाद सीधी स्थिति में अपने हाथ रखे और सिर को पीछे की तरफ झुका ले | फिर अपनी पीठ मोड़े और ऊपर की तरफ देखे और अपने दायें पैर की पीछे की तरफ खीचते समय सांस ले |अस्थमा के मरीजो के लिए यह योगासन बहुत ही फायदेमंद है |

भुजंगआसन है लाभकारी है अस्थमा में

इस योग को करने का अभ्यास कुछ इस प्रकार है , सबसे पहले आप अपने कन्धो को झुका ले फिर अपनी दोनों हाथ की हथेलियों को जमीन पर रखे |ये सब करने के बाद अपनी छाती और हाथो को सीधा करे फिर सिर को पीछे की तरफ ले जायें |

सिर को पीछे झुकाते हुए साँस लेते रहे ,यह योगासन अस्थमा की समस्या से बहुत जल्द छुटकारा दिला देता है |

अनुलोम विलोम करे अस्थमा में

यह आसन करने से दिमाग शांत रहता है ,नींद भी अच्छी तरह आती है ,आँखों की रोशनी भी बढती है , दिमाग को भी तेज़ बनाता है | इस आसन को करने के लिए आप सबसे पहले एक शांत जगह पर आराम से बैठ जायें फिर आप अपने सीधे हाथ के अंगूठे से नाक के छेद को बंद कर ले |

इसके बाद उल्टे नाक के छेद से सांस को अन्दर की तरफ ले फिर बगल की उंगलियों से इस छेद को बंद करे और सीधे नाक के छेद से अंगूठा हटाकर साँस को आराम से बाहर निकल दे | ऐसा आपको चार से पांच बार करना है |

कपालभाती योगासन –

इस आसन को करने के लिए आप एक शांत वातावरण में आराम से बैठ जायें फिर साँस को अंदर ले और बाहर छोड़े आराम आराम से करना है आपको ये सब क्योकि यह योगासन बहुत ही फायदेमंद होता है |आप जब भी साँस ले तो पेट को धक्का देते हुए साँस अंदर की तरफ ले | इस आसन को रोजाना करने से वजन भी कम हो जाता है तथा अस्थमा की समस्या से तो बचाता ही है |

मत्स्यासन –

इस आसन को करने से बहुत फायदा होता है ,यह आसन पेट के रोग ,मधुमेह ,थाईराइड तथा अस्थमा की समस्या को दूर करने के लिए बहुत फायदेमंद है | इस आसन को करने के लिए पदमासन की स्थिति में बैठ जायें और फिर पीछे की तरफ झुककर लेट जायें |

दोनों हाथो को आपस में जोड़कर सिर के पीछे रख ले तथा पीठ के हिस्से को ऊपर की तरफ उठा ले और गर्दन के हिस्से को मोड़कर सिर को जमीन से लगायें | दोनों पैरो के अंगूठो को हाथो से पकड़े फिर कोहनियों को जमीन से टिका कर थोड़ी देर रखे रहे ,ऐसा आप एक से पांच मिनिट तक करे फिर आप अपनी पहले की अवस्था में आ जायें |

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.