लू से बचने के घरेलू उपाय – Prevent Heatstroke In Hindi

0
193
लू लगने के लक्षण

ऐसा पहली बार नहीं हुआ है की कभी भी गर्मी में तेज़ धूप व गर्म हवा ना चले इसलिए हमेशा गर्मी हमेशा तेज़ धूप व गर्म हवा तथा अन्य कई तरह की समस्याओ के साथ ही आती है | जिसमे से तेज गर्मियों के दौरान लू लग जाना सबसे आम बात है |

लू के कारण न हम घर से लू लगने के डर से बाहर नही जा पाते हैं और न ही अच्छी तरह से घर में हम रह पाते है | इनसे बचने के लिए हम चाहे जितनी भी कोशिश कर ले लेकिन ये गर्म हवाए हमारा पीछा नही छोडती |

यहाँ तक कि घर में भी लू लगने का डर बना रहता है | लेकिन अब आपको परेशान होने की कोई जरूरत नहीं है क्योंकि गर्मी के मौसम में लू से बचने के लिए हमारे पास बहुत सरल उपाय है |

लू किन कारणों से लगती है –

लू एक तेज़ बुखार द्वारा चिह्नित ऐसी स्थिति है जो अक्सर शरीर के तापमान-नियामक तंत्र की असफलता के कारण होता है जब बहुत ज्यादा खून उच्च तापमान के संपर्क होता है।

कुछ लोगों की लू लगने के कारण मृत्यु भी हो जाती है |अब बात ये आती है कि कुछ लोगों की ही क्यों लू लगने पर मृत्यु होती है तो इसका कारण हमारे शरीर का तापमान है, जो कि हमेशा 37 डिग्री सेल्सियस होता है | इस तापमान पर ही हमारे शरीर के सभी अंग अच्छे तरीके से काम करते है |

गर्मी के मौसम में हमारे शरीर से पानी पसीने के रूप में बाहर निकालता है | इस कारण हमारे शरीर का टेम्प्रेचर सही रहता है | इसलिए आपको गर्मी में अधिक से अधिक पानी पीना चाहिए |

लेकिन जब बाहर का टेम्प्रेचर 45 डिग्री के ऊपर चला जाता है तो शरीर के तापमान को सही रखने के लिए हमे अधिक पानी पीना चाहिए और जब शरीर में पानी की कमी आ जाती है या किसी और कारण से व्यक्ति कूलिंग वयवस्था बंद पढ़ जाती है, तब व्यक्ति के शरीर का तापमान 37 डिग्री सेल्सियस से ऊपर पहुँचने लगता है |

जब वयक्ती के शरीर का तापमान 37 डिग्री सेल्सियस से बढ़कर 42 डिग्री सेल्सियस तक पहुँच जाता है, तो उस स्थिति में खून गरम होने लग जाता है और जिसके कारण से खून में मौजूद प्रोटीन पकने लगता है | शरीर में पानी कम होने की वजह से खून गाढ़ा होने लगता है |

इतना ही नहीं व्यक्ति का ब्लडप्रेशर भी कम हो जाता है और शरीर के खास अंगो में रक्त संचार नही हो पता है ,ऐसे में व्यक्ति कोमा में भी चला जाता है | उसके शरीर के अंग कुछ मिनटों में ही कार्य करना बंद कर देते है ,जिससे व्यक्ति की मृत्यु हो जाती है | इसलिए गर्मी से बचने और लू लगने पर क्या करना चाहिए इसकी पूरी जानकारी मालूम होना चाहिए |

लू लगने के लक्षण –

लू लगने पर शरीर का तापमान तुरंत बढ़ जाता है जिसमें तेज बुखार के साथ, सांस लेने में तकलीफ, उल्टी और चक्कर आना, दस्त, सिरदर्द शरीर टूटना, बार – बार मुंह सुखना, बार – बार प्यास लगना और कमजोरी जैसे लक्षण दिखते है तथा आँखों, हाथों और तलवे में जलन भी होने लगती है | इससे इंसान बेहोश तक हो जाता है | लू का सही समय पर इलाज न होने पर इसके लक्षण से कम ब्लड प्रेशर से लेकर ब्रेन या हार्ट स्ट्रोक तक भी हो सकता है |

लू के लगने पर शरीर में परेशानी –

  • बहुत तेज सिरदर्द व ज्यादा होता है |
  • गर्मी के बावजूद पसीने की कमी |
  • स्नायु की कमजोरी या ऐंठन होना |
  • मिचली और उल्टी का मन होता है |
  • दिल की धडकने तेज़ हो जाती है , जो या तो मजबूत या कमजोर हो सकती है |
  •  त्वच लाल होने लगती व गर्म भी |
  •  शरीर में हल्कापन महसूस होगा और चक्कर भी आते है |

लू के घरेलू उपचार-

अपने मस्तिष्क और शरीर के खास अंगों को रोकने या कम करने के लिए अपने शरीर को एक सामान्य तापमान पर होना बेहद जरूरी होता है विशेष रूप से गर्मियों में क्योंकि इस समय बाहर अधिक तापमान हो जाने के कारण शरीर के तापमान को ठंडा करने के लिए हीटस्ट्रोक उपचार की आवश्यकता होती है | ऐसा करने के लिए, आप हमारे कुछ आसान घरेलू उपाय का प्रयोग कर सकते हैं |

ऊष्माघात अवस्था में सबसे पहला काम प्राथमिक उपचार का होता है | प्राथमिक उपचार की प्रक्रिया में सबसे जरुरी होता है शरीर के तापमान को कम करना |

इस उपचार के अंतर्गत लू लगने की स्थिति में सबसे पहले मरीज को छाव में बिठाए | उसके कपड़े को ढीला कर दे और ठंडा कपडा उसके शरीर पर रख दे |मरीज के पैरो और हाथों की अच्छी तरह मालिश करें |
मरीज के शरीर में पानी की कमी बिल्कुल भी न होने दे | इसके लिए आपको मरीज को लगातार तरल पदार्थ,चीनी मिला हुआ पानी, शर्बत, मौसमी का जूस आदि पीने को दे |

प्याज एक ऐसी चीज़ है जो हर घर में खाना बनाने के लिए में इस्तेमाल होती है जिसके कारण यह आसानी से तुरन्त मिल भी जाती है | घरेलू इलाज के अंतर्गत प्याज लू लगने पर रामबाण इलाज के तौर पर कार्य करती है |

प्याज के रस को गर्दन के पीछे और छाती पर अच्छी तरह से मालिश करने पर तुरन्त राहत मिल जाती है | अगर आप चाहे तो आधे कटे प्याज के टुकड़े को अपने पॉकेट में रखकर धुप में बाहर निकल सकते है | इससे आप को कभी लू नहीं लगेगी |
तेज बुखार होने पर ठंडे पानी में गिला करके एक रुमाल सर पर रख दे | बुखार कम हो जायेगा |

आम का पना घर पर बनाकर पिएं | इसके लिए आपको दो – चार कच्चे आम की जरूरत पढ़ेगी इसे बनाने के लिए पहले आमो को उवाले और फिर थोड़ी देर के लिए ठंडे पानी में डाल दें फिर इसके बाद आम का गूदा निकालकर इसमें स्वादनुसार जीरा, नमक, गुड़, कालीमिर्च, धनिया और पानी मिलाएं इस मिश्रण को तीन से चार बार पिएं |

लू लगने पर मरीज को ठंडा पानी कभी भी नही देना चाहिए , क्योंकि इससे बीमारी के बढने का डर रहता है | आप पानी का टेस्ट अच्छा बनाने के लिए सादे पानी में नींबू की कुछ बूंद डाल सकते है |

एक साफ़ गिले कपड़े से मरीज के शरीर को दिन में तीन से चार बार जरुर ठंडा करते रहना चाहिए | यह शरीर के तापमान को सामान्य रखने में मदद करेगा |

दो ग्राम जीरा , लौंग और पुदीने के दस पत्ते को लेकर पीस लें | फिर आधे गिलास पानी में मिलाकर मरीज को पिला दें मरीज को काफी हद तक राहत मिलेगी |

घरेलू उपायों में से यह उपाय काफी अच्छा है इस उपाय में धनिया पत्ती के जूस में कम मात्रा में चीनी मिलाकर पिए या फिर धनिया या पुदीने की चटनी खाएं | लू लगने पर यह सबसे सरल और असरदार उपचार का काम करता है |
यदि मरीज को कफ बन रहा हो, तो प्याज के रस को गर्म करके मरीज को पिला दें इससे बहुत जल्द कफ निकल जायेगा |
प्याज का पेस्ट और जौ का आटा दोनों को मिलाकर अच्छी तरह पीसकर पेस्ट बना लें फिर इस पेस्ट को मरीज के शरीर पर लगाए | लू लग जाने पर इससे बहुत जल्द आराम मिलता है |

लू लगने पर आलू बुखारे के सेवन भी काफी फायदेमंद होता है |इसका इस्तेमाल करने के लिए पहले आलू बुखारे को ठंडे़ पानी में को भिगो दें | फिर उसके बाद उसी पानी में आलू बुखारे को अच्छी तरह पिस ले | जब यह अच्छी तरह से मिल जाए तब बाकी बचे मिश्रण को बाहर निकाल कर अलग रख दे और उस पानी को पी लें | यह रात को सोने से पहले करें |

घरेलू उपाय में यह भी एक सरल उपाय इस उपाय में एक कच्चा प्याज और एक भूना प्याज लेकर दोनों को महीन पीस लें | उसमें दो ग्राम जीरे का पाउडर और बीस ग्राम मिसरी मिलाकर मरीज को दिन में एक बार दें इससे मरीज को काफी फायदा मिलेगा |

रोगी को जल्द आराम मिलें इसके लिए हरे आम के पल्प में पकी इमली मिलाकर मरीज को दें | इमली को गर्म पानी में भी डालकर देने से मरीज जो बहुत जल्द आराम मिलेगा |

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.